Bindash News || 26 वर्षों का मेरा सपना पूरा हुआ
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

26 वर्षों का मेरा सपना पूरा हुआ

Bindash News / 27-06-2021 / 2841


कई पीढ़ी गुज़री कर के फ़रियाद,आने वाली पीढ़ी रखेगी याद:चंद्रवंशी


आशुतोष रंजन
गढ़वा

जिस तरह आततायी रावण पर विजय पाने के लिए लंका जाने के रास्ते में बाधक समुंद्र में भगवान राम और बानरी सेना द्वारा पुल बनाया गया था ठीक उसी तरह भगवान नहीं बल्कि एक सामान्य इंसान हो कर मेरे द्वारा इस कलयुग में दो राज्यों के लाखों लोगों की जड़वत परेशानी को दूर करने के लिए सोन नदी पर पुल निर्माण हो इस निमित प्रयास शुरू किया गया,आज जब निर्माण की स्वीकृति मिली तो यह अंदाज़ा लगा पाना मुश्किल है कि मैं कितना आह्लादित हूं, उक्त बातें पूर्व मंत्री सह मझिआंव-विश्रामपुर के भाजपा विधायक रामचंद्र चंद्रवंशी ने गढ़वा स्थित अपने आवास पर पत्रकारों से बात करते हुए कही,उन्होंने और क्या कहा आइये आपको इस ख़ास ख़बर के जरिये बताते हैं।

26 वर्षों का मेरा सपना पूरा हुआ:- सोन नदी पर (श्रीनगर-पढ़ुका) के बीच पुल निर्माण का मेरा सपना कुछ सालों का नहीं बल्कि 26 वर्षों का था,क्योंकि ऐसे तो विधायक बनने के पूर्व से ही मैं पुल बिना होने वाली परेशानी से अवगत था,लेकिन जब मैं वर्ष 1995 में अविकसित क्षेत्र विश्रामपुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक निर्वाचित हुआ तो क्षेत्र में विकास की बुनियाद रखने के साथ साथ उक्त सोन नदी में पुल निर्माण को ले कर आवाज उठाना शुरू किया,एक दो बार नहीं बल्कि दर्जनों बार विधानसभा में मुख्य रूप से पटल पर सवाल उठाने के साथ साथ दिल्ली जा कर केंद्रीय नेताओं से भी संपर्क कर पुल के बावत बात करता रहा,आज आलम है कि उसी आवाज़ ने असर किया और सोन नदी में पुल बनने का मार्ग प्रशस्त हुआ,कहा कि मैं केवल झूठे वायदे नहीं बल्कि काम करने में विश्वास रखता हूं और किस रूप में उसे सरज़मीन पर कार्यरूप में लाता हूं यह क्षेत्र में पहुंच कर बेशक देखा जा सकता है,सोन नदी पर पुल निर्माण के लिए गढ़वा जिले के पूर्व के सभी जनप्रतिनिधियों व जनता सभी ने मेहनत किया है जिसका परिणाम आज मिला,यहां तक की भूतपूर्व मंत्री स्वर्गीय गिरिवर पांडेय ने भी आवाज बुलंद किया था,विधायक ने कहा कि कांडी की जनता ने सोन नदी पर पुल निर्माण के लिए धरना-प्रदर्शन भी किया था,तीन वर्ष पूर्व ही केंद्र की सर्वे टीम गढ़वा पहुंची थी,टीम को मैंने पूरा सहयोग किया था,गर्मी के मौसम में भी सर्वे टीम को लगातार सहयोग किया व तीन महीने तक टीम ने सर्वे का काम किया,इसके बाद डीपीआर तैयार कराया गया,इस पुल के बनने से झारखंड-बिहार की दूरी कम होगी। वहीं झारखंड,बिहार,उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश के बीच व्यवसाय बढ़ेगा,श्रीनगर-पढुका के बीच सोन नदी पर पुल निर्माण मेरा राजनीतिक सपना था,जो अब पूरा होने जा रहा है,इसके लिए मैंने केंद्र सरकार के संबंधित मंत्री से भी मांग किया था,196 करोड़ की लागत से पुल निर्माण की स्वीकृति मिल चुकी है,वहीं निर्माण को ले कर निविदा भी निकाली जा चुकी है,इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व संबंधित मंत्री के प्रति आभार प्रकट करता हूं,लेकिन मुझे इस बात का काफी दुख है कि कुछ लोग लंबे प्रयास को भूल जाते हैं और श्रेय लेने में लग जाते हैं,अरे दिल पर हाथ रख उस रोज़ को जब याद कीजियेगा तब ख़ुद ब ख़ुद समझ आ जायेगा कि किस तरह अन्य कामों को परे रख जब मैं केवल इसी पुल निर्माण के बावत पटना और दिल्ली एक किये हुए था,आज जब वह मेहनत रंग लाया तो उस रंग में लोग अपना रंग मिलाने में जुट गए हैं,लेकिन शायद उन्हें इस बात का इल्म नहीं है कि चंद्रवंशी के मेहनत वाला रंग बहुत गाढ़ा है जिस पर कोई और रंग मिलाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है,साथ ही विधायक ने कहा कि यह भाजपा की सबसे बड़ी उपलब्धी है,इस पुल को ले कर फ़रियाद करते हुए कई पीढ़ियां गुज़र गयीं,लेकिन अब आनेवाली पीढ़ी याद रखेगी।इस मौक़े पर विधायक के साथ भाजपा के वरिष्ठ नेता भोला चंद्रवंशी मुख्य रूप से मौजूद रहे।

Total view 2841

RELATED NEWS