Bindash News || कैसे ख़ुद को पत्रकार कहूं...
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

Economy

कैसे ख़ुद को पत्रकार कहूं...

Bindash News / 08-07-2021 / 1429


शोषण पत्रकारिता का जरिया बना डिजिटल मीडिया


आशुतोष रंजन
गढ़वा

देनी थी सही दिशा पर दे रहे वो ग़लत आकार,ऐसे विषम हालात में कैसे कहूं ख़ुद को पत्रकार",जी हां यह दिली कसक है उस पत्रकार की जिसने अपनी पत्रकारिता के जरिये एक आयाम गढ़ने का काम किया है,जिसके प्रकाशित ख़बर और आलेख को पढ़ कर हम जैसे सीखने वाले पत्रकार हर वक्त सीखते आ रहे हैं,लेकिन आज वो पत्रकार वर्तमान गुज़रते दौर वाली पत्रकारिता को देख कर बहुत व्यथित हैं,हम बात यहां गढ़वा जिला के वरिष्ठ पत्रकार धीरेंद्र चौबे की कर रहे हैं,आख़िर वज़ह क्या है,आइये आपको बताते हैं।

 

डिजिटल मीडिया:- एक वक्त था जब कालांतर में केवल अख़बार और रेडियो हुआ करता था जिसके जरिये हम समाचारों से अवगत हुआ करते थे,फ़िर वक्त बदला और डिजिटल मीडिया का दौर शुरू हुआ,हम रेडियो के जरिये सुबह और शाम के साथ साथ बेसब्री से अगले रोज़ के अख़बार की राह कम ताकने लगे,क्योंकि डिजिटल व्यवस्था के जरिये एक तरफ़ जहां चौबीसो घंटे हम टीवी के माध्यम से ख़बरों से वाक़िफ़ होने लगे,वहीं दूसरी ओर सोशल मीडिया के जरिये हर पल हमें समाचार मिलने लगा,कभी अख़बार और टीवी का पत्रकार होना एक गौरव की बात होती थी,लोग बड़े ही फ़ख्र से ख़ुद को पत्रकार कहते थे और समाज उनकी इज़्ज़त भी किया करता था,पर आज डिजिटल मीडिया के इस आधुनिक दौर में जहां लोगों की जीवनशैली से आवरण हटा वहीं यह कहने में कोई हिचक नहीं है कि वर्तमान पत्रकारिता भी बेपर्दा हुई,आज डिजिटल मीडिया से ताल्लुक रखते हुए अपने को पत्रकार कहने वाले वैसे कथित पत्रकार का ख़बरों से वास्ता कम और बैनर के जरिये सामने वाले का शोषण करना शगल बन गया,आलम हुआ कि कभी पत्रकार के करीब आने वाले लोग आज पत्रकार से दूर भागने के साथ साथ यह कहने लगे कि काश ऐसा होता कि आज वैसे पत्रकारों से मुलाक़ात नहीं होता,ऐसे हालात में ख़ुद को पत्रकार कहने में धीरेंद्र चौबे को झिझक महसूस हो रहा है तो क्या ग़लत है,उक्त बातें उनके द्वारा वेबिनार के जरिये एक बड़े पटल पर रखा गया,दरअसल प्रादेशिक लोक संपर्क ब्यूरो, रांची, पटना, उत्तर प्रदेश व देहरादून की ओर से बुधवार को डिजिटल मीडिया आचार संहिता-2021 विषयक वेबिनार का आयोजन किया गया था,वेबिनार में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के संयुक्त सचिव श्री विक्रम सहाय ने डिजिटल मीडिया आचार संहिता के बारे में विस्तृत जानकारी दी,श्री सहाय ने बड़ी सहजता और सरलता से पत्रकार बंधुओं के प्रश्नों का उत्तर दिया और उनकी शंकाओं को दूर किया,पत्र सूचना कार्यालय रांची के अपर महानिदेशक श्री अरिमर्दन सिंह की प्रेरणा और गौरव पुष्कर के सहयोग से धीरेंद्र चौबे ने भी वेबिनार में हिस्सा लिया,वेबिनार में उनके द्वारा डिजिटल मीडिया क्षेत्र में अनुभवहीन व असामाजिक तत्वों के आवक के साथ साथ तेजी से बढ़ते डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म पर फेक न्यूज और जान बूझकर किसी की प्रतिष्ठा का हनन किये जाने संबंधी खबरों के प्रसारण को लेकर चिंता व्यक्त की गयी,सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के संयुक्त सचिव ने उनकी चिंता को जायज बताते हुए कहा कि शिकायत के आलोक में ही डिजिटल मीडिया आचार संहिता बनायी गयी है,इसका उद्देश्य ऐसी सामग्री के प्रसारण पर रोक लगाना है जो मौजूदा कानूनों का उल्लंघन करते हों।

Total view 1429

RELATED NEWS