Bindash News || यह मेरे विशेषाधिकार का हनन है...
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

यह मेरे विशेषाधिकार का हनन है...

Bindash News / 07-09-2021 / 815


विधायक का पत्र अध्यक्ष के नाम


आशुतोष रंजन
गढ़वा

वो मुद्दा छोटे से गांव का हो या राज्य के किसी कोने का हर मुद्दे पर मुखर होते हुए सड़क से सदन तक आवाज़ बुलंद करने के साथ साथ उसके समाधान तक अडिग रहने वाले भवनाथपुर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक भानु प्रताप शाही आज बहुत आहत हैं,उनके आहत होने का कारण क्या है,आइये आपको इस ख़ास ख़बर के जरिये बताते हैं।

विधायक का पत्र अध्यक्ष के नाम:- किसी विषय को ले कर विधायकों द्वारा अक्सर विधानसभा अध्यक्ष को पत्र दिया जाता है,उस पत्र के जरिये कुछ मांग किया जाता है,लेकिन जो पत्र आज विधायक भानु प्रताप शाही द्वारा दिया गया वो बहुत ही ख़ास और नज़र करने के साथ साथ हर जनप्रतिनिधियों को ज़ेहन में पेवस्त करने लायक है,उक्त पत्र को हम आहत पत्र कह सकते हैं,अब आप पूछियेगा की किस रूप में आहत पत्र की संज्ञा दी गयी,तो मैं बताऊं की कल गढ़वा जिले के भागोडीह गांव में अवस्थित एक बड़े पावर ग्रिड में मेराल ग्रिड का उदघाटन एवं भवनाथपुर और पलामू के छतरपुर सबग्रिड का शिलान्यास मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा जहां ऑनलाइन किया गया,वहीं विधायक सह सूबे के मंत्री मिथिलेश ठाकुर स्थल पर मौजूद रहे,उदघाटन और शिलान्यास हुआ यह कोई मुद्दा नहीं है,जो विषय उन्हें यानी विधायक को आहत कर रहा है वो यह है कि सत्र चलने के दरम्यान किसी ऐसे कार्यक्रम का आयोजन जिले में नहीं होता है जिसमें जनप्रतिनिधियों की मौजूदगी ज़रूरी हो,लेकिन गढ़वा के भागोडीह में छोटे नहीं बल्कि बड़े और भव्य कार्यक्रम का आयोजन हुआ,उनके द्वारा कहा गया कि दिन का सत्र था यह दिन का सत्र था और ऐसे आयोजन को नहीं करना नियम में निहित है लेकिन ऐसा किया गया,और कहीं मैं वहां रह कर उसका मुख़ालफ़त ना कर दूं इसीलिए मुझे इस कार्यक्रम की सूचना सरकार और सरकारी महकमे द्वारा नहीं दी गयी,इसमें सरकार के वरीय अधिकारियों के मिलीभगत की सीधे रूप में बु आ रही है,साथ ही साथ जिस तरह एक जनहित के काम से मुझे जानबूझ कर वंचित रखा गया इससे मेरी आत्मा बहुत ही कुंठित है और मेरी दिली भावना आहत हुई है।

यह मेरे विशेषाधिकार का हनन है:- अध्यक्ष से मुलाक़ात कर अपना आहत पत्र देते हुए विधायक द्वारा मात्र इतना ही कुछ नहीं कहा गया,उनके द्वारा मांग किया गया कि जिस तरह एक जनप्रतिनिधि के अधिकार से जानबूझ कर खिलवाड़ किया गया इसके विरुद्ध में झारखंड विधानसभा की प्रक्रिया तथा कार्य संचालन के नियम 166 के तहत राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन,ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव अविनाश कुमार,ऊर्जा विभाग के प्रबंध निदेशक के के वर्मा एवं गढ़वा उपायुक्त राजेश पाठक के विरुद्ध विशेषाधिकार हनन की सूचना देते हुए यह मांग कर रहा हूं कि विधिसम्मत कार्रवाई की जाए जिससे प्रदेश में एक अच्छा संदेश जाए,ताक़ि आगे भविष्य में कोई भी सरकार और उनके इशारे पर काम करने वाले अधिकारी किसी जनप्रतिनिधि के विशेषाधिकार का हनन करने से पहले सौ बार सोचें,साथ ही विधायक ने कहा कि कार्रवाई करते हुए उसकी प्रति मुझे उपलब्ध करायी जाए।

Total view 815

RELATED NEWS