Bindash News || सुन कर ''शहीदी'' चर्चे,जज़्बों से भरे ''बच्चे''
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

सुन कर ''शहीदी'' चर्चे,जज़्बों से भरे ''बच्चे''

Bindash News / 22-10-2018 / 735


बन कर पुलिस जवान,पूरा करें देश सेवा का अरमान:ओमप्रकाश

रंजन
 
गढ़वा
 
हो फ़ौजी जिंदगी अपनी,वतन के लिए दफ़न हो,चिता जले बारूद से अपनी,तिरंगा ही कफ़न हो,जी हां इसी सोच और जज़्बे से लबरेज़ आज गढ़वा के स्कूली बच्चों ने शहीद सम्मान समारोह में भाग ले कर देश सेवा के लिए फ़ौजी बनने और देश के लिए कुर्बान होने का संकल्प लिया।
 
जज़्बों से भरे बच्चे:- सुन कर शहीदी चर्चे,जज़्बों से भरे बच्चे",अपने स्कूल से पढ़ कर सिपाही बन देश सेवा में गए अशोक और ओमप्रकाश के शहीदी गाथा सुन जहां एक तरफ बच्चों की आंखें भर आयी वहीं दूसरी ओर वो उन्हीं की भांति देश सेवा में जाने का प्रण लिए,बच्चों ने एक स्वर से कहा कि शिक्षा हासिल कर किसी की बेगारी नहीं बल्कि सच्चा सिपाही बन देश की सेवा करेंगें।
 
जब रोने लगी मां:- बदल गयी सबकी भाव भंगिमा,जब रोने लगी मां,जी हां आज मुख्यालय के गोविंद स्कूल में आयोजित शहीद संस्मरण दिवस के मौके पर सम्मान देने के लिए लाए गए शहीद अशोक और ओमप्रकाश के परिजनों को उनके लाडले की वीर गाथा सुनाते हुए जैसे ही सम्मान दिया गया मां की आंखों से झर झर आँशु झरने लगे,उधर एक मां के चीत्कार से मौजूद सभी की आंखें नम हो गयीं।
 
सुन कर पुलिस अधिकारी की बात:- बच्चों ने किया दिल में आत्मसात,सुन कर पुलिस अधिकारी की बात,शहीद संस्मरण दिवस का आयोजन कर कार्यक्रम में मुख्य रूप से मौजूद गढ़वा के एसडीपीओ ओमप्रकाश तिवारी द्वारा दोनो शहीद जवानों की जीवनी पर प्रकाश डाला गया साथ ही कार्यक्रम में शामिल बच्चों से मुख़ातिब होते हुए अधिकारी ने कहा कि आज आप खुद सोचिये की आपके स्कूल का ही छात्र कोई और नौकरी में ना जा कर पुलिस सेवा में जाना उचित समझा और एक सच्चा सिपाही बन समाज और देश की अस्मिता बचाते हुए वीरगति को प्राप्त हुआ,आज जहां लोग बेरोजगारी के आलम में बेचारगी की व्यथा सुन और सुना रहे हैं लेकिन आज ही एक जगह मौजूद हम सभी वीरगाथा सुना रहे हैं,इसलिए आप सभी बच्चों को सिख लेने की जरूरत है।
 
 

Total view 735

RELATED NEWS