Bindash News || गढ़वा में हुआ "करोड़ो" रूपये का "बालू घोटाला"
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

गढ़वा में हुआ "करोड़ो" रूपये का "बालू घोटाला"

Bindash News / 03-11-2018 / 1616


ट्रकों में खोजते रहे रेत,मोपेड पर ढुला गया बालू

 
हैं अभी पहने नक़ाब,गर हुई जांच तो कई चेहरे होंगें बेनक़ाब
 
हो जिले का या हो पड़ोसी,बख्शे नहीं जायेंगें दोषी:डीसी
 
आशुतोष रंजन
 
गढ़वा
 
हम सबने चारा घोटाला के बारे में सुना है और अब तलक सुनते भी आ रहे हैं जो अविभाजित बिहार में हुआ था,जिसमें स्कूटर और मोटरसाइकल पर गाय भैंस और उनके खाने के चारे को ढो कर अरबों रुपये का घोटाला कर डाला गया,बस उसी गोरखधंधे की पुनरावृत्ति झारखंड में हुई जहां मवेशी और चारा तो नहीं हां कार,मोपेड और मोटरसाइकल पर सैकड़ो ट्रक बालू ढो कर करोड़ो रूपये का घोटाला कर दिया गया,विस्तृत खबर जानने के लिए पढ़िए यह खास रिपोर्ट-
पूरे राज्य में टेंडर,गढ़वा में सरेंडर:- विरोध-गतिरोध के बावजूद आख़िरकार झारखंड में बालू का टेंडर हुआ,और बालू का उठाव शुरू हुआ,उठाव के पीछे शर्त था का हिसाब से उठाव होगा लेकिन अफसोस इस बात का की सरकार ने पूरे राज्य में तो बालू का टेंडर किया लेकिन गढ़वा में मानो खुद को पूरी तरह से सरेंडर कर दिया नतीज़ा हुआ कि जिले के सभी नदियों से बालू का निर्बाध उठाव शुरू हो गया,और बिना रोक-टेक के बिना किसी पाबंदी के बालू माफ़िया बालू का उठाव करने लगे।
 
बालू जाने लगा पड़ोसी प्रदेश:- सुना था लाभान्वित होगा अपना प्रदेश,यहां तो बालू जाने लगा पड़ोसी प्रदेश",जी हां टेंडर के वक्त सबको यही मालूमात हुआ कि अपने नदियों से बालू का उठाव जरूर होगा पर उस बालू से हम ही लाभान्वित होंगें,लेकिन यह ख़्वाब तक काफ़ूर हो गया जब अपने यहां का बालू हमसे बहुत दूर पड़ोसी राज्य उत्तरप्रदेश में जाने लगा,अहले सुबह से देर रात तक हजारों गाड़ियां बालू ले कर जाने लगीं,और हम एक बाजी हारे हुए नहीं बल्कि हराये हुए की तरह देखते रहे।
फिर भी नहीं रुका बालू का उठना:- हुई हत्या की घटना,फिर भी नहीं रुका बालू का उठना,आपको बताएं कि ना जाने ऊपर से नीचे तक किसका वरदहस्त रहा कि हत्या की घटना के बाद भी बालू का उठाव नहीं रुका,आपको बताएं कि बालू उठाव विवाद के कारण ही जिले के रमना थाना अंतर्गत जतपुरा बालू घाट पर बालू माफ़िया और ग्रामीणों के बीच विवाद हुआ जिसमें चार लोगों की हत्या हो गयी,कई बालू के ट्रक जला दिए गए,मामला काफी चर्चित हुआ,राज्य से ले कर देश स्तर तक उक्त मामले की धमक पहुंची,लेकिन जान जाने के बाद भी जिले से बालू का जाना नहीं रुक सका।
 
लगाया पुराने खेल पर विराम:- जैसे ही आयीं नयी पुलिस कप्तान,आते के साथ ही लगाया,बालू के पुराने खेल पर विराम",हम बात कर रहे हैं गढ़वा की एसपी शिवानी तिवारी की,जिन्होंने अपने पदस्थापना के साथ ही नक्सल प्रभावित जिला में नक्सलियों से भी ज्यादा चर्चित बालू मामले पर विराम लगाना उचित समझा और तत्काल बड़ी बड़ी कार्रवाई करते हुए जिले के सभी घाटों पर छापामारी करा अवैध रूप से बालू का उठाव कर रहे माफियाओं की गिरफ़्तारी की वहीं सैकड़ो गाड़ियों को ज़ब्त किया,पूरे जिले में हड़कंप मच गया,और बालू का उठाव पूर्णतः बंद हो गया।
मोटरसाइकल पर ढो दिया बालू:- सभी ट्रकों में ढूंढते रहे रेत,उधर माफ़िया निकले चालू,मोटरसाइकल पर ढो दिया बालू",जी हां इधर पुलिस के साथ साथ पूरा प्रशासनिक अमला बड़ी गाड़ियों को ताकता रहा और उधर माफियाओं द्वारा मोटरसाइकल से ढो दिया गया बालू,अब आप सोच रहे होंगें की भला बड़ी गाड़ियों से ले जाया जाने वाला बालू भला कार,मोपेड और मोटरसाइकल से कैसे ढोया गया,तो यहां आपको बताएं कि बालू का उठाव तो बड़ी गाड़ियों यानी ट्रकों से ही किया गया,लेकिन उसके नंबर प्लेट के साथ साथ चालान तक कार,मोपेड और मोटरसाइकल के नम्बर का कटाया गया,यानी गाड़ी बड़ी रही नंबर छोटा रहा,लेकिन उन गाड़ियों में जा रहे बालू का परत मोटा ही रहा,साथ ही आपको बताएं कि कोई एक दो और दस गाड़ियों के साथ ऐसा जालसाजी नहीं किया गया बल्कि लगभग पांच सौ ट्रकों के नंबर बदल कर करोड़ो रूपये का वारा न्यारा कर लिया गया।
 
कई चेहरे जो होंगें बेनकाब:-हैं अभी वो पहने नक़ाब,गर हुई जांच तो कई चेहरे होंगें बेनक़ाब",बिल्कुल सही बात है,क्योंकि यहां सवाल उठता है कि इतना बड़ा फर्जीवाड़ा केवल माफ़िया द्वारा अकेले नहीं किया जा सकता,तो यह सोचना बिल्कुल लाजिमी है,क्योंकि इसमें जिला खनन विभाग के अधिकारी,कर्मी के साथ साथ कई ऐसे चेहरे हैं जो इसके जांच के बाद बेनक़ाब होंगें।
है कोशिश की हो जांच और कार्रवाई:- कुछ दिनों पहले पदस्थापित हुए जिला खनन पदाधिकारी इस मामले को बहुत गंभीर के साथ एक बड़ा घोटाला बता रहे हैं,साथ ही उनका कहना है कि सभी जिम्स प्रबंधक,जिले के सभी बालू घाटों के संवेदक,कर्मी और वाहन मालिक से ले कर चालक पर प्राथमिकी दर्ज करने का आवेदन सभी थानों में दे दिया गया है,कहा कि हमारी भी इक्षा है कि चाहे वह कोई हो या तो मेरे विभाग का हो या बाहर का माफ़िया हो या सफेदपोश हो सबके चेहरों से पर्दा हटे और वो कार्रवाई के जद्द में आएं।
 
होगी जांच और पूरी कार्रवाई:- उधर जिले में विकास को पटरी पर ले जाते हुए उसे सरपट दौड़ाने में खुद को व्यस्त रखने वाले जिला उपायुक्त हर्ष मंगला भी इस मामले को ले कर खासे चिंतित हैं क्योंकि एक तरफ जहां वो सभी के सहयोग से विकास की एक एक राशि का सदुपयोग कर जिले को विकास के अग्रणी पायदान पर लाने की दिली कोशिश कर रहे हैं उधर जिले में इस तरह के कारनामे सामने आ रहे हैं,मामले को गंभीरता से लेते हुए उपायुक्त ने बड़े ही तल्ख़ अंदाज में कहा कि प्राथमिकी दर्ज की जा रही है,साथ ही जांच भी शुरू हो रही है,जांच में जो भी दोषी पाए जायेंगें वो चाहे जो भी हों किसी सूरत में बख्शे नहीं जाएंगे।
 
 

Total view 1616

RELATED NEWS