Bindash News || बचाने की हुई कोशिश "लाख", फ़िर भी हुआ रुपया "ख़ाक"
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

बचाने की हुई कोशिश "लाख", फ़िर भी हुआ रुपया "ख़ाक"

Bindash News / 12-11-2018 / 765


ख़ुश हुई लक्ष्मी या हुईं नाराज़,नहीं समझ पा रहा कोई आज

आशुतोष रंजन
गढ़वा
 
घटना दीपावली रोज की है जो अब सामने आयी है,लेकिन बेहद अफसोस करने वाली है क्योंकि थोड़ी सी लापरवाही के कारण घटी घटना ने एक व्यक्ति को बीमार बना दिया है,क्या है घटना जानने के लिए पढ़िए यह ख़ास रिपोर्ट-
 
फ़िर भी हुआ रुपया ख़ाक:- बचाने की हुई कोशिश लाख,फिर भी रुपया हुआ ख़ाक,जी हां गढ़वा जिले में आगज़नी की एक घटना में लाख रुपया जल जाने का एक मामला सामने आया है,रुपया को जलने से बचाने का प्रयास किया गया लेकिन बचाया नहीं जा सका।
 
जल गया लाख:- धमनी में धधकी आग,और जल गया लाख",हम बात वंशीधर नगर थाना के धमनी गांव की कर रहे हैं जहां के निवासी बाबू ओमप्रकाश सिंह के घर में आगजनी की घटना में उनका लाख रुपया पूरी तरह जल कर राख हो गया।
 
नहीं समझ रहा कोई आज:- ख़ुश हुई लक्ष्मी या हुईं नाराज़, नहीं समझ पा रहा कोई आज",जी हां आगजनी और रुपया जलने की हुई घटना के से कोई यह समझ नहीं पा रहा है कि रुपया के मालिक ओमप्रकाश सिंह के द्वारा तो लक्ष्मी को खुश करने की कोशिश की गयी थी लेकिन लक्ष्मी नाराज कैसे हो गयीं, तो यहां आपको बताएं कि किसी जरूरी काम वास्ते अपनी जमीन बिक्री कर उसका तीन लाख रुपया को एक कपड़े में बांध कर ओमप्रकाश सिंह द्वारा घर में रखा गया था,और दीपावली की रोज उसी पोटली को दिया दिखा उसके पास रख दिया,फिर दरवाजे को बंद कर बाहर निकल गए,देर रात अचानक घर से आग की लपटें और धुआं बाहर निकलता दिखा तो लोग घर की ओर दौड़े,और जब दरवाजा खोला गया तो वहां दिखा की उक्त रुपये के पोटली में ही आग लगी है और वह धु धु कर जल रहा है,बुझाने की लाख कोशिश के बावजूद लाख रुपये को जलने से नहीं बचाया जा सका,रुपये जलने के बाद बादल काफी सदमें में हैं,क्योंकि रुपयों के साथ उनका सपना भी जल कर राख हो गया।
 
 
 

 

Total view 765

RELATED NEWS