Bindash News || अब तो "बात- बात" पर होने लगी "हत्या"
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

अब तो "बात- बात" पर होने लगी "हत्या"

Bindash News / 20-01-2019 / 1132


शिवपूजन ने की थी साजन की हत्या

 
आशुतोष रंजन
 
गढ़वा
 
एक वक्त ऐसा भी था जब आपस में लड़ायी के बाद भी लोग थाना और न्यायालय में एक साथ जाया करते थे और बातचीत के साथ साथ एक साथ बैठ कर खाना खाया करते थे,इसी देश में महाभारत की उस लड़ायी का भी उदाहरण दिया जाता है जहां सुबह शुरू होने वाली लड़ायी शाम में बंद हो जाया करती थी,और लोग आपस में मुलाक़ात किया करते थे,लेकिन आज देखिये वक़्त कितना बदल गया है लोग किसी के बात को बर्दाश्त करने की मनःस्थिति में नही हैं,थोड़ी बात बहस की परिणति हत्या से हो रही है,ताज़ा वाक़्या गढ़वा में सामने आया है जहां आज पुलिस ने एक हत्याकांड का उदभेदन किया है जिसमें एकमात्र गाली के लिए हत्या कर बदला लिए जाने का मामला सामने आया है,कहां हुई थी हत्या जानने के लिए पढ़िए यह रिपोर्ट-
 
साजन की हुई थी हत्या:- आज से ठीक सात दिन पहले जिले के बंशीधर नगर थाना पुलिस को सूचना मिली कि कुड़दंड गांव में एक युवक का शव पड़ा हुआ है,सूचना के आलोक में पुलिस वहां पहुंच शव को बरामद करती है,उक्त शव की पहचान उसी गांव निवासी साजन कुमार के रूप में होती है,पुलिस मामले की पड़ताल में जुट जाती है,इन गुजरे सात दिनों में पुलिस ने मामले की पूरी छानबीन कर डाली और मालूम कर लिया कि साजन की हुई थी हत्या,साथ ही कर लिया हत्यारे को गिरफ़्तार।
 
शिवपूजन ने की थी साजन की हत्या:- किसने और क्यों कि थी साजन की हत्या इस बावत जानकारी देते हुए बंशीधर नगर डीएसपी नीरज कुमार ने बताया कि साजन की हत्या उसी के गांव निवासी युवक शिवपूजन द्वारा गाली का बदला लेने के रूप में की गयी थी।
 
गाली का बदला हत्या से लिया:- गिरफ़्तारी के उपरांत शिवपूजन ने पुलिस को बताया कि साजन के पिता द्वारा उसके पिता और भाभी के साथ किसी बात को ले कर गाली गलौज और मारपीट की गयी थी,उसी समय से वह बदला लेने के फ़िराक में था,उसे अवसर पिछले बारह तारीख को मिला जब साजन पास में ही खेल देखने आया हुआ था और वहीं एक बच्चे के साथ बैठ कर मोबाइल में पिक्चर देख रहा था,मेरे द्वारा उस दूसरे बच्चे को घर भेज दिया जाता है और मैं साजन को दूसरा पिक्चर दिखाने को कहता हूं जिसे वह नहीं मानता है और उससे बहस होने लगती है इतने में ही मैं उसे पत्थर दे मारता हूं जिससे उसकी मौत हो जाती है,फिर मैं वहां से भाग कर घर आता हूं और अगले सुबह गढ़वा भाग जाता हूं,साथ ही वह कहता है कि आज मैं भले पकड़ा गया लेकिन मैंने बदला ले लिया।
 
इनकी रही मुख्य भूमिका:- हत्याकांड का उदभेदन और हत्यारे को गिरफ़्तार करने में वरीय बंशीधर थाना के इंस्पेक्टर सतेंद्र नारायण सिंह और थाना प्रभारी निरंजन कुमार की मुख्य भूमिका रही।
 
 

Total view 1132

RELATED NEWS