Bindash News || कैसे "सरकार" की आएगी फिर से बहार,जब "वोट" नहीं देगा "झारखंड-बिहार"
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

कैसे "सरकार" की आएगी फिर से बहार,जब "वोट" नहीं देगा "झारखंड-बिहार"

Bindash News / 30-01-2019 / 807


जब नहीं बनाए पुल,तो अब वोट को जाओ भूल

 
आशुतोष रंजन
 
गढ़वा
 
एक तरफ़ जहां चुनाव आयोग से ले कर प्रशासन और राजनीतिक दल सभी चुनाव की तैयारी में जुट गए हैं तो उधर दूसरी ओर मतदाता कर रहे हैं तैयारी वोट बहिष्कार की,आखिर उन्हें किस बात की नाराजगी है जानने के लिए पढ़िए यह रिपोर्ट -
 
सालों से डूबते उतराते गुजर रहे हैं लोग:- न जाने पुल बनने का कब बनेगा संयोग,क्योंकि सालों से डूबते उतराते गुजर रहे हैं लोग",वह चाहे झारखंड के गढ़वा जिला के वो लोग हों जो सोन नदी के किनारे निवास करते हैं या नदी के उस तरफ बिहार के लोग दोनों तरफ के लोगों का प्रतिरोज आना जाना लगा रहता है,जो नदी में पुल नहीं रहने के कारण दशकों से नाव द्वारा नदी पार होते आ रहे हैं,लोग बताते हैं कि अब तलक सैकड़ो लोग नदी की उफ़नती धारा में जलप्लावित हो चुके हैं,लेकिन आज तलक पुल का बनना एक दिवास्वप्न बना हुआ है।
 
नहीं बनेंगें वोटदाता:- बहुत नाराज़ हैं मतदाता,वो नहीं बनेंगें वोटदाता",जी हां केंद्र और राज्य में सत्तासीन सरकार भले इन गुजरे सालों में विकास के बड़े बड़े दावे कर रही हो और उसे बता कर जनता से वोट लेने की इक्षा पाली हो लेकिन झारखंड और बिहार के कुछ इलाकों में मतदाताओं ने वोट नहीं देने का मन बना लिया है और चुपके चुपके नहीं बल्कि एक साथ एक स्वर से सभी वोट बहिष्कार का एलान कर रहे हैं,लोगों का यह समूह सरकार के उस घोषणा और उस योजना से नाराज है जिसमें सरकार द्वारा झारखंड के गढ़वा को बिहार से जोड़ने के लिए सोन नदी में पुल निर्माण योजना की स्वीकृति की बात कही गयी थी,लेकिन एन वक्त पर उस पुल निर्माण योजना की राशि को बिहार के भागलपुर में बनने वाले पुल निर्माण योजना में भेज दिया गया,बस इसी बात को ले कर लोगों में तीखी नाराज़गी है,पुल निर्माण संघर्ष समिति के अध्यक्ष अरुण कुमार सिंह,सूर्यदेव सिंह और विनोद प्रसाद सहित सैकड़ों लोगों का कहना है कि जब पुल नहीं तो वोट कैसा,इसलिए लोगों द्वारा वोट बहिष्कार का निर्णय लिया गया है।
 
जब वोट नहीं देगा झारखंड-बिहार:- सरकार कैसे सोच रही है की फिर से आएगी बहार,क्योंकि जब वोट नहीं देगा झारखंड-बिहार",जी बिल्कुल झारखंड के गढ़वा जिले के सोनतटीय गांव के लोगों में जहां आक्रोश है वहीं बिहार के लोग भी ख़ासा नाराज हैं,सोन किनारे के दर्जनों गांव पडुका,तिलोखर सहित कई गांव के लोगों ने कहा कि हमारे लिए यह पुल जीवन में एक नया बदलाव लाने जैसा था लेकिन सरकार ने पुल की राशि दूसरे जगह भेज कर हमारे साथ बहुत बड़ा छल किया है,इसलिए हमलोग किसी सूरत में वोट नहीं देंगें।
 
सरकार विकासीय कार्य के बदौलत वोट लेने का ख्वाब देख रही है तो उधर प्रशासन द्वारा वोटरों को जागरूक करने का अभियान चलाया जा रहा है,लेकिन यहां तो मतदाता के जागरूक होने की बात कौन करे वो तो अपने नफा नुकसान को पूरी तरह समझते और महसूस करते हुए वोट नहीं देने का निर्णय ले लिया गया है,अब देखना यह दिलचस्प होगा कि सरकार चुनाव के वक्त उनके सवाल का क्या जवाब देती है ?
 

Total view 807

RELATED NEWS