Bindash News || "रौशनी" के लिए "रोड जाम"
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

"रौशनी" के लिए "रोड जाम"

Bindash News / 25-05-2019 / 1770


गढ़वा को बिजली दो


आशुतोष रंजन
गढ़वा

गढ़वा बिजली बिना आख़िर कब तलक अंधेरे में रहे यह कई दशकों का यक्ष प्रश्न है जिसका माकूल जवाब अब तक नहीं ढूंढा जा सका,आपको बताएं कि बिहार और यूपी दो प्रदेशों से मिलने वाली उधार की बिजली का नक़द भुगतान करने के बाद भी लाखों लोग अनियमित बिजली आपूर्ति के कारण अंधेरे में रहने को विवश हैं,ऐसे में अब लोगों का सब्र जवाब दे गया जिसका आलम है कि लोग आक्रोशित हो सड़क पर उतर आए हैं और सड़क को जाम कर दिया है,जब तलक पर्याप्त बिजली आपूर्ति की लिखित बात नहीं होती है तब तक गढ़वा जाम रहेगा,आइये पढ़िए इसी से जुड़ी एक ख़ास रिपोर्ट-

बिजली बिना हुआ जीना मुहाल:- काश कोई समझता मेरा दर्द-ए-हाल,बिजली बिना हुआ जीना मुहाल",जी हां एक तरफ हर क्षण-प्रतिक्षण जान लेती भीषण गर्मी तो दूसरी ओर जीना मुहाल करती बिजली,उधर बार बार रौशनी की मांग कर तंग और आजिज आ चुके लोग आज पूरी तरह बिफ़र पड़े जिसका नतीज़ा आप देख सकते हैं कि लोग सड़क पर बैठ चुके हैं,आलम है कि गढ़वा जिला मुख्यालय से हो कर गुजरने वाला मुख्य सड़क एनएच 75 पूरी तरह जाम हो चुका है,छोटी से ले कर बड़ी और लंबी दूरी की गाड़ियां भी जाम के जद्द में आ चुकी हैं,उधर आक्रोशित लोग सरकार और प्रशासन के ख़िलाफ़ जमकर नारेबाजी कर रहे हैं,उनका कहना है कि विधायक,सांसद,मंत्री और मुख्यमंत्री सभी के वादों के सहारे कब तलक हमलोग बिजली बिना जीवन गुजारें अब बर्दास्त कर बाहर हो गया है,हर चुनाव में हमसे इसी बिजली के नाम पर वोट लिया जाता है लेकिन चुनाव बाद बात आयी गयी हो कर रह जाती है,हमलोगों की सारी आस धरि की धरि रह जाती है।

पर नहीं हटाएंगें जाम:- रोड पर दे देंगें जान,पर नहीं हटाएंगें जाम",बिहार,यूपी,छतीसगढ़ और एमपी इन चार राज्यों की सीमा पर बसे गढ़वा को व्यवसायिक जिला भी कहा जाता है,यहां का व्यवसाय खुद के राज्य नहीं बल्कि कई राज्यों में प्रमुख स्थान रखता है,लेकिन जिस तरह मोर अपना पैर देख उदास हो जाता है ठीक उसी तरह यहां के व्यवसायी व्यवस्था देख निराश हो जाया करते हैं,व्यवसाय में बिजली मुख्य स्थान रखता है लेकिन उसके बावजूद बिजली महरूम है,हालात है कि यहां का व्यवसाय आज कई सालों से प्रभावित हो रहा है,बार बार के आश्वासन के बाद भी स्थिति ना सुधरते देख जहां कल लोगों ने बिजली विभाग में हंगामा और तालाबंदी किया वहीं आज सड़क जाम कर दिया गया है,उक्त आक्रोशित लोगों में शामिल व्यवसायी भी कहते हैं कि अब हमलोग किसी के आश्वासन और भुलावे में नहीं आने वाले हैं जब तलक लिखित रूप में यह नहीं कहा जाता कि अब कल से पर्याप्त बिजली मिलेगी तब तलक हम लोग सड़क से नहीं उठेंगें।

हम कहां से दें बिजली:- उधर बिजली विभाग अपना रोना रो रहा है,विभाग के अभियंता की मानें तो गढ़वा के लिए चालीस मेगावाट बिजली की जरूरत है जबकि उसके विरुद्ध मात्र पांच मेगावाट ही बिजली मिल रही है ऐसे हालात में हम बिजली दें तो कहां से दें ?

कई दशकों से बिजली की समस्या से दो चार होते हुए अपने यहां पर्याप्त बिजली होने की आस देखते देखते कई पीढ़ी समाप्त हो गयी लेकिन गढ़वा रौशन नहीं हो सका,अब यहां बिजली लाने के लिए वर्तमान पीढ़ी आक्रोशित हो गयी है,अब देखना यह होगा कि आज अहले सुबह से शुरू हुआ यह सड़क जाम बिजली बहाल कराने में कामयाब होता है या एक बार फिर सरकारी आश्वासन की घुंटी से मामला तमाम होता है ?

Total view 1770

RELATED NEWS