Bindash News || "जिला" में नहीं रहना है क्या ?
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

"जिला" में नहीं रहना है क्या ?

Bindash News / 18-08-2019 / 2171


था तो वह आम पर आज हुआ ख़ास


आशुतोष रंजन
गढ़वा

जिला में नहीं रहना है क्या,किसी ऐसे जगह भेजवा देंगें की जीवन नरक बन जायेगा,ऐसे जहर बुझे शब्द भेदी बाण आज तलक हम आप किसी पदधारी राजनेता या ओहदेदार अधिकारी द्वारा ही छोड़ते देखे हैं पर क्या आप यह अंदाजा लगा सकते हैं की कोई आम व्यक्ति भी ऐसे शब्दों के साथ किसी आम पर नहीं बल्कि कार्यालिय कर्मचारियों पर रौब दिखाता हो,नहीं न तो आइए आपको इस खबर के जरिये बताते हैं।

वह आम है पर ख़ास है:- यह बात बिल्कुल सही है कि वह आम है पर वह खास है क्योंकि उसे खास का वरदहस्त जो प्राप्त है,सूत्र बताते हैं कि जिला मुख्यालय से ले कर प्रखंड क्षेत्रों में कई तरह की कार्यालिय सामग्री सप्लाई करने वाले एक व्यक्ति को एक ख़ास ओहदेदार का इतना सहयोग हासिल हो चुका है कि कल का वह आम आज का ख़ास हो गया है,जिसका आलम है कि कार्यालिय कार्यों में भी उसकी दखलअंदाजी देखी जाती है,वह अब किसी कार्यों के लिए याचना नहीं बल्कि आदेश तक दे दिया करता है,सबके कार्यों में देर भले हो जाये पर उसकी पहुंच ऐसी की उसके कार्यों में विलंब नहीं होता।

बाहर भेजवा देंगें:- जिला में नहीं रहना है क्या,बाहर भेजवा देंगें,कुछ इस तल्ख़ अंदाज में कभी कभी कार्यालिय कर्मचारियों पर रौब झाड़ने वाले उस आम लेकिन खास व्यक्ति की कार्यालिय कार्यों में हिस्सेदारी ज्यादा ही देखी जा रही है,किसी कार्य में देर और किसी के द्वारा उसकी बातों को नजरअंदाज किये जाने के बाद वह सीधे रूप में जिला मुख्यालय से बाहर भेजवा देने को धमकी देने लगता है,वह अपनी पहुंच और रसूख का हवाला देते हुए अपनी धमक बरकरार रखना चाहता है,जिसमें कमोवेश वह कामयाब भी हो रहा है।

अब यहां सवाल उठता है कि आखिर उसे किस ख़ास का साथ मिला कि कार्यालय में सामग्री की सप्लाई करने वाला एक आम  व्यक्ति आज इतना ख़ास हो गया ?

Total view 2171

RELATED NEWS