Bindash News || स्थिर रहा "इरादा",प्रशासन ने पूरा किया "वादा"
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

स्थिर रहा "इरादा",प्रशासन ने पूरा किया "वादा"

Bindash News / 13-09-2019 / 1151


नहीं होने देंगें इन्हें कुछ भी मलाल, हम रखेंगें इनका ख़्याल:सुमित्रा


आशुतोष रंजन
गढ़वा

अपने राज्य में प्राकृतिक आपदा में लोगों के हताहत होने की खबरें अक्सर आती हैं लेकिन उससे भी ज्यादा जो मामला प्रकाश में आता है वह यह कि पीड़ित परिवार महीनों नहीं बल्कि सालों तक मुआवज़ा के लिए सरकारी बाबुओं के दर पर माथा टेकते हैं फिर भी निराशा हाथ आता है लेकिन इसी झारखंड के गढ़वा जिले में प्रशासन की सजगता तब नुमाया हुआ जब वज्रपात में हताहत हुए लोगों के परिजनों को चौबीस घंटे के अंदर मुआवज़े का भुगतान कर दिया गया,प्रशासनिक सजगता को परिलक्षित करती एक रिपोर्ट

प्रशासन ने पूरा किया वादा:-स्थिर था इरादा,तभी तो प्रशासन ने पूरा किया वादा",जी हां कल वज्रपात की घटना में मृत आठ लोगों के परिजनों को 24 घंटे के अंदर मुआवज़ा देने के अपने वायदे को आज गढ़वा जिला प्रशासन ने पूरा किया,आपको बताएं की कल घटना घटित होने के बाद जहां एक तरफ सदर एसडीओ प्रदीप कुमार अपने अधीनस्थ अधिकारियों के साथ मौजूद रह कर शवों का ससमय अंत्यपरीक्षण कराया वहीं घटना में घायल लोगों को बेहतर इलाज उपलब्ध कराया,उधर जिले के उपायुक्त मुआवजे के निमित कागजी प्रक्रिया में व्यस्त रहे,जिसका सुपरिणाम हुआ कि आज एसडीओ मृतक के घर पहुंचे और प्रति मृतक चार चार लाख रुपये मुआवजे का चेक परिजनों को प्रदान किया,एसडीओ ने कहा कि केवल मुआवजा दे कर प्रशासन ने अपनी जिम्मेवारी की इतिश्री नहीं कर ली है,सभी पीड़ित परिवारों का ख्याल रखा जाएगा और इन्हें हर तरह की सहायता दी जाएगी।

हम भी रखेंगें इनका ख़्याल:-नहीं होने देंगें इन्हें कुछ भी मलाल,हम भी रखेंगें इनका ख़्याल",उधर मुआवजा भुगतान के मौके पर नगर पंचायत अध्यक्ष सुमित्रा देवी,कार्यपालक पदाधिकारी गुलाम समदानी और स्थानीय विधायक सह स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी के प्रतिनिधि के रूप में मौजूद डॉक्टर ईश्वर सागर चंद्रवंशी ने कहा कि इस घटना को ले कर तो हम सभी तो मर्माहत हैं ही लेकिन इसी बीच परिवारों को मुआवजा देना भी जरूरी था,जिसकी प्रक्रिया आज ससमय पूरी हुई,साथ ही कहा कि पीड़ित परिवार का हमारे तरफ से भी हर संभव ख्याल रखा जाएगा।

घटना के बाद जिस तरह प्रशासन द्वारा दिली संज़ीदगी दिखाते हुए इलाज़ से ले कर अपने वायदे के अनुसार त्वरित मुआवज़े का भुगतान किया गया,ऐसे में जरूरत होगी परिजनों की वक्त बे वक्त खोज खबर लेते रहने की ताकि दुख से आहत परिवार को किसी जरूरत के वास्ते सरकारी दर पर भटकना ना पड़े ?

Total view 1151

RELATED NEWS