Bindash News || वो क्यों जाने को बेताब हैं "राजद" के पनाहों में
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

वो क्यों जाने को बेताब हैं "राजद" के पनाहों में

Bindash News / 23-09-2019 / 2393


क्या..? टिकट कटने का है डर इसलिए छोड़ रहे हैं घर


आशुतोष रंजन
गढ़वा

सत्तापक्ष यानी भाजपा द्वारा आने वाले विधानसभा चुनाव में 65 पार के लक्ष्य को साधने के लिए भले हर प्रयास किया जा रहा हो पर उसके कुछ ऐसे नुमाइंदे हैं जो साथ में रह कर पांच साल गुजारने और अपने खुद का अंपायर खड़ा करने के बाद अब राजद में जाने का मन ही नहीं बल्कि ख़ासा संपर्क बनाए हुए हैं,कौन हैं वो राजनेता इसका ख़ुलाशा तो हम अभी नहीं कर सकते लेकिन आपको इतना जरूर बता दें कि चारा घोटाला मामले में सजायाप्ता होने के बाद हिरासत हालात में ही रांची रिम्स में इलाज़रत राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव से छुप-छुपा कर ही सही उनका मिलना जुलना जारी है,आख़िर ऐसा क्यों है आइये उस संभावना को इस खबर के जरिये आपको बताते हैं।

वो क्यों जाने को बेताब हैं राजद के पनाहों में:- आज तलक तो वो हैं भाजपा के बाहों में,पर क्यों जाने को बेताब हैं राजद के पनाहों में",ऐसी जानकारी सूत्रों से मिलने के बाद सोचने पर विवश होना पड़ रहा है कि अपने विधानसभा क्षेत्र में खुद का जनाधार नहीं होने के बाद भी भाजपा के बदौलत ही चुनाव जीतने और फिर इन गुज़रे पांच सालों में अपना खुद का व्यक्तिगत अंपायर खड़ा करने के बाद आज ऐसी क्या बात हुई कि उनके द्वारा पार्टी छोड़ने का मन बनाया जा रहा है,सूत्रों की मानें तो दिन के उजाले में कोई देख ना ले इसलिए उनके द्वारा रात के अंधेरे में लालू जी से मुलाकात की जा रही है,चर्चा तो यहां तक है कि उनके द्वारा पिछले दिनों बिहार में हुए चुनाव में उनके द्वारा राजद को बड़ी रक़म भी दी गयी थी,कुल मिलाकर कहा जाए तो वो पूरी तरह प्रयासरत हैं कि आने वाले चुनाव में वो राजद प्रत्याशी के रूप में अपने विधानसभा क्षेत्र में पहुंचें।

इसलिए छोड़ रहे हैं घर:-आगामी विधानसभा चुनाव में जहां एक तरफ सत्तापक्ष फिर से सत्ता पर पूरी बहुमत के साथ काबिज़ होने के लिए अभियान में जुट गयी है लेकिन साथ ही सूत्रों के अनुसार अंदरखाने में यह चर्चा बलवती हो रही है कि वर्तमान में सत्ता में रहने वाले कुछ राजनेताओं का टिकट कट सकता है जिसके कई मापदंड बताए जा रहे हैं,बस इसीलिए यानी अपना टिकट कटने के डर से ही उनके द्वारा पाला बदलने का प्रयास जारी है,उन्हें पूरा आभास हो गया है कि आगामी चुनाव में वो फिर से सत्तासीन पार्टी के उम्मीदवार नहीं हो सकते इसी कारण वो राजद में जाने का मन बना चुके हैं जहां सूत्रों के द्वारा यह ज्ञात हो रहा है वहीं हुसैनाबाद के पूर्व राजद विधायक संजय सिंह यादव ने भी इस बात की तस्दीक़ की है कि सत्ता में काबिज़ भाजपा के कई राजनेता राजद के संपर्क में हैं।

Total view 2393

RELATED NEWS