Bindash News || गढ़वा "एसपी" की अनोखी पहल
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

गढ़वा "एसपी" की अनोखी पहल

Bindash News / 04-09-2018 / 2119


"बदहाल नक्सली परिवार का सुधरेगा हाल"
आशुतोष रंजन

गढ़वा


जानने परिवार का हाल,नक्सली के घर पहुंचा पुलिस परिवार,जी हां आज गढ़वा एसपी शिवानी तिवारी एएसपी अभियान सदन कुमार के साथ दो लाख के इनामी नक्सली पंकज कोरवा के घर पहुंची,और खुद से जाना उसके परिवार वालों का हाल,ज्यादा जानने के लिए पढ़िए यह रिपोर्ट

एक अनोखी पहल
:- नक्सल उन्मूलन को ले कर पुलिस ने एक अनोखी पहल की है और वह है उन नक्सलियों के घर जाना और उनके परिजनों का हाल जानकर उन्हें लाभ पहुंचाना जो वर्तमान गुजरते वक्त में नक्सली हैं,इसी आलोक में आज गढ़वा पुलिस कप्तान शिवानी तिवारी आज रंका प्रखंड के नक्सल प्रभावित गांव ढेंगुरा पहुंची जहां दो लाख का इनामी नक्सली पंकज कोरवा का परिवार रहता है,वहां पहुंच एसपी द्वारा उसके परिवार वालों से बात की गयी जिसमें उन्हें बताया गया कि किस तरह सरकार और पुलिस प्रशासन नक्सलियों के लिए सरेंडर पॉलिसि लायी है जिसके तहत सरेंडर करने वाले नक्सलियों को कितना फायदा हो रहा है,उधर परिजनों ने भी माना कि अब तो बदलाव होना चाहिए।

बेहाल है हाल:- नक्सली पंकज के परिवार वालों ने एसपी से कहा कि उग्रवादी बनने से यही फायदा हुआ कि बहुत बेहाल है अपना हाल,कहा कि अन्न के एक एक दाने के साथ पर्याप्त वस्त्र और रहने को माकूल घर तक से महरूम हैं हम,आज कई सालों से हम सभी केवल जवाब दे रहे हैं कभी कुछ कहने का मौका नहीं मिला, कहते कहते फफकते हुए परिजन कहते हैं कि आज पहली बार किसी पुलिस अधिकारी ने हमलोगों से हमारा हाल पूछा है।

ख़त्म हो नक्सलवाद:- क्या ख़त्म हो नक्सलवाद पूछे जाने पर परिजनों ने खुद की परिस्थिति का हवाला देते हुए कहा कि जिसके हालात सुधारने को ले कर नक्सलवाद का जन्म हुआ लेकिन आज हमारे हालात सुधरने के बजाए बद्दतर हो गए तो फिर किस काम का यह नक्सलवाद,सीधे रूप में कहा कि अब प्रशासन और सरकार सबकी सुन रही है और उन सभी गांव को विकसित कर रही है जो कल विकास से दूर थे इसलिए अब ख़त्म हो नक्सलवाद।

सरेंडर करे पंकज:- पंकज भी सरेंडर करे यह पुलिस प्रशासन नहीं बल्कि उसका परिवार कह रहा है,एसपी से मुखातिब होते हुए उसके परिजनों ने कहा कि अभी नहीं कभी भी संगठन में रहने से नुकसान छोड़ कर फायदा कभी नहीं हुआ,भागते फिरते वाली जिंदगी जीने से क्या फायदा,इसलिए बेहतर यही है कि इतना लाभ वाले सरेंडर पॉलिसि के तहत सरेंडर कर दे,परिवारवालों ने कहा कि अगर पंकज उनके संपर्क में आता है तो वह उन्हें जरूर समझाएंगे और पूरी कोशिश करेंगें की अब वह भटके नहीं और मुख्य राह के हमराह बन जाये।

साथ है पुलिस:- उधर मौके पर एसपी शिवानी तिवारी ने कहा कि जो नक्सली बहकावे में आ कर मुख्य रास्ते से भटक कर गलत रास्ता पकड़ लिए हैं उनके परिवार वाले सच में बदहाल हो कर असहाय सा जीवन व्यतीत कर रहे हैं लेकिन उनके हालात में परिवर्तन लाने के लिए पुलिस आगे बढ़ चुकी है,उन परिवारवालों को किसी तरह की परेशानी ना हो इसी निमित गढ़वा पुलिस उन तक पहुंची है,उन्हें हर तरह से सुविधा दिए जाने का निर्णय लिया गया है,साथ ही साथ एसपी ने कहा कि हम नक्सलियों को हमेशा की तरह आज भी यही संदेश दे रहे हैं कि वो मुख्यधारा में वापस आ जाएं और सरेंडर नीति का लाभ प्राप्त करें।

Total view 2119

RELATED NEWS