Bindash News || "आठवें" आश्चर्य में शामिल करा दे कोई "राजनीति" झारखंड की
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

Economy

"आठवें" आश्चर्य में शामिल करा दे कोई "राजनीति" झारखंड की

Bindash News / 17-02-2020 / 664


देते थे जिसे गाली,अब उसी के लिए बजायेंगे ताली


आशुतोष रंजन
गढ़वा

ऐसे तो देश के हर कोने से यानी राज्यों से एक दल का दूसरे दल में और दूसरी पार्टी के नेताओं का दूसरे दल में शामिल होने की ख़बरें आती रहती हैं,लेकिन बात अगर झारखंड की हो तो यहां के क्या कहने कब कौन स्थायी पार्टी किस पार्टी में विलय कर जाए तो वहीं कब कोई बड़ा और नामवर नेता किसी दूसरे दल से दिल मिला ले,वर्तमान में किस नेता द्वारा किससे दिल मिलाया जा रहा है आइये जानिए इस रिपोर्ट से।

अब उसी के लिए बजायेंगे ताली:- वो देते थे जिसे गाली,अब उसी के लिए बजायेंगे ताली",जी हां वह एक मात्र क्षेत्र राजनीति का ही है जहां कोई किसी का ना तो स्थायी दोस्त होता है और ना ही स्थायी दुश्मन,तभी तो जिस राजनेता द्वारा अपने प्रतिद्वंदी पार्टियों को पूरी तरह ग़लत बताते हुए उसके नेताओं तक को खरी खोटी कहते हुए मौक़े पर गाली तक दे दी जाती है,लेकिन जब उस पार्टी में शामिल होने की बात आती है तो ग़लत दिखने वाली पार्टी और उसके नेता अच्छे लगने लगते हैं,कुछ ऐसा ही कई दिनों से बाबूलाल मरांडी को लग रहा है तभी तो आज वो अपनी पार्टी जेवीएम का संपूर्ण विलय कराते हुए ख़ुद भी उस भाजपा के होने जा रहे हैं जिसे बासी मुंह के साथ साथ भरपूर खाने के बाद भी कोसते हुए ग़लत करार दिया करते थे,पर अब उसी ज़बान से मरांडी जी भाजपा को पिछले कुछ दिनों से बढ़िया बता भी रहे हैं साथ ही आज से बताएंगें भी,तभी तो हमने कहा कि देते थे जिसे गाली,अब उसी के लिए बजायेंगे ताली।"

आठवें आश्चर्य में शामिल करा दे कोई राजनीति झारखंड की:- पत्रकारिता शुरू करने से पहले भी और अब एक ख़बरनवीस होने के नाते अविभाजित बिहार के साथ साथ विभाजन के बाद भी जितनी राजनीति हमें देखने को मिली उसी के अनुसार मैं कह रहा हूं कि आठवें आश्चर्य में शामिल करा दे कोई राजनीति झारखंड की।

Total view 664

RELATED NEWS