Bindash News || आएगी अबकी किसकी बारी,आज होनी है "रायशुमारी"
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

आएगी अबकी किसकी बारी,आज होनी है "रायशुमारी"

Bindash News / 29-02-2020 / 908


क्या फिर से ओम या नहीं तो फिर कौन..?


आशुतोष रंजन
गढ़वा
 
भले अर्श पर पहुंच जाने के बाद नीचे के सांगठनिक सीढ़ी को भूल जाने के साथ साथ पदधारियों की बातों को ऊपर स्तर पर नजरअंदाज कर दिया जाता हो लेकिन राजनीतिक पार्टियों में संगठन को महत्व देने की बात जरूर दुहरायी जाती है और समयावधि पूरी होने के बाद प्रखंड से ले कर राज्य मुख्यालय तक संगठन के पदधारियों का चुनाव होता है,वर्तमान में भाजपा का सांगठनिक चुनाव शुरू हुआ है,आज राज्य के गढ़वा में जिलाध्यक्ष पद को ले कर रायशुमारी होनी है,अब अंदरखाने में क्या चल रहा है आइये आपको संकेत रूप में ही सही बताते हैं।
 
आज होनी है रायशुमारी:- आएगी अबकी किसकी बारी,आज होनी है रायशुमारी",जी हां प्रखंड से ले कर जिला और प्रदेश स्तरीय मोर्चा के अध्यक्ष सहित सांसद विधायक सभी का आज जुटान हो रहा है,यहां बताएं कि सभी को जिलाध्यक्ष ओमप्रकाश केशरी द्वारा बजाप्ते सूचित किया गया है कि आज शाम 4 बजे सभी जिला कार्यालय में जुटे जहां रायशुमारी होना निश्चित हुआ है,रायशुमारी होने की तिथि और वक्त भले अब जा कर तय हुआ हो लेकिन ऐसा होना है इसकी जानकारी तो बहुत पहले से थी ही,अब पार्टी के कार्यकर्ता के साथ साथ सभी यही चर्चा कर रहे हैं कि आएगी अबकी किसकी बारी,होने जा रही रायशुमारी।
 
या नहीं तो फ़िर कौन:- गुज़रे झारखंड विधानसभा चुनाव में मात मिलने का कारण अगर संगठन को कहें तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी,क्योंकि प्रत्याशी देने को ले कर भी सांगठनिक स्तर से राय ली गयी पर उसे दरकिनार किया गया,नतीज़ा पार्टी के ही नहीं बल्कि सबके सामने है,इसलिए अब भाजपा संगठन को ज़बानी नहीं बल्कि जमीनी तरज़ीह देने का मन बना चुकी है,जहां एक तरफ़ बाबूलाल मरांडी को शामिल करते हुए उन्हें विधायक दल का नेता बनाया गया वहीं दूसरी ओर संगठन को मजबूत बनाने में सालों से प्राणपन से जुटे हुए दीपक प्रकाश को प्रदेश अध्यक्ष की कमान सौंपी गयी,अब सभी जिलों में जिलाध्यक्ष चुनने की बारी है,बात हम गढ़वा की करें तो आज इस जिले के जिलाध्यक्ष के लिए रायशुमारी होनी है,अभी वर्तमान में जिलाध्यक्ष ओमप्रकाश केशरी हैं,अगर देखा जाए तो उनका अध्यक्षीय कार्यकाल पूरी तरह निर्विवादित रहा,तभी तो लोग दो सवाल पूछ रहे हैं कि क्या फ़िर से अध्यक्ष होंगें ओम या नहीं तो फिर कौन.?
 
जारी है लॉबिंग:- भले राज्य में भाजपा हार गयी हो लेकिन पार्टी में शामिल होने के साथ साथ संगठन में जगह पाने के लिए लोग अभी भी लालायित हैं,तभी तो जिलाध्यक्ष गढ़वा का बनना है,उसकी रायशुमारी यहां होनी है,लेकिनउसकी लॉबिंग राज्य मुख्यालय में हो रही है,सूत्रों की माने तो जिलाध्यक्ष की दौड़ में कई नाम शामिल हैं जिनके द्वारा खुद के परिचय और पहचान के अनुसार लॉबिंग की जा रही है,अंदरखाने की जानकारी रखने वाले सूत्र कहते हैं कि इस बार का जिलाध्यक्ष रघुवर दास,अर्जुन मुंडा या बाबूलाल मरांडी किसके गुट का होगा यह भी बड़ा मायने रखेगा,क्योंकि राजनीति में कहा जाता है कि अपना जिलाध्यक्ष होने का बहुत मायने होता है,उधर सूत्रों द्वारा बताए गए एक महत्वपूर्ण बात तो बताना ही भूल गए कि जिले से ताल्लुक रखने वाले विधायी और संसदीय राजनीत करने वाले पदधारी पूर्व और वर्तमान राजनेता की भी दिली इक्छा है कि जिलाध्यक्ष उनका ही हो,अब तो सबकुछ रायशुमारी नहीं बल्कि लॉबीमारी में आगे निकलने वाले पर ही निर्भर करेगा।
 
 

Total view 908

RELATED NEWS