Bindash News || "मिनिस्टर" की "चिट्ठी", चीफ मिनिस्टर को
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

"मिनिस्टर" की "चिट्ठी", चीफ मिनिस्टर को

Bindash News / 12-04-2020 / 700


लॉक डाउन ख़त्म होते ही हटिया ग्रिड से जुड़ेगा गढ़वा:मिथिलेश


आशुतोष रंजन
गढ़वा


उधार की मिलने वाली रौशनी से आधा उजाला और आधे अंधेरे में दशकों से जीवन गुजारने वाले गढ़वा के लोगों के आंखों से भी अब उम्मीद की रौशनी ग़ायब सी हो गयी है,क्योंकि अब तलक तो पर्याप्त रौशनी मिल जाने का ख़्वाब दिखाया जाता रहा पर वह ख़्वाब दिवास्वप्न बन गया क्योंकि दिन के उजाले में दिखाया जाने वाला सपना कभी पूरा नहीं होता,ठीक उसी तरह गढ़वा को पूर्ण बिजली मिलने का सपना अब तक पूरा नहीं हुआ,पर अब शायद उस ख़्वाब के पूरा हो जाने की एक आस जगी है,क्योंकि केवल समस्या सुन कर नहीं बल्कि उससे बचपन से ले कर राजनीतिक जीवन में आने के बाद लगातार ग्यारह सालों तक जो दो चार हुए हैं,यानी जिसने इस विषम हालात को झेला है,अब उन्हीं के द्वारा इस परिस्थिति में बदलाव करने का निर्णय लिया गया है,गढ़वा से अंधेरे को दूर करने की पहल शुरू की गयी है,किसने ऐसा सोचा है आइये आपको इस ख़बर के जरिये बताते हैं।

 

मिनिस्टर की चिट्ठी,चीफ मिनिस्टर को:- वह खुद अस्वस्थ हैं,लेकिन फिर भी उन्हें फ़िक्र अपने क्षेत्र और जिले की है,हम बात यहां गढ़वा विधायक सह राज्य के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश ठाकुर की कर रहे हैं जिनके द्वारा जहां एक तरफ़ इस वैश्विक महामारी कोरोना के मद्देनजर लोगों को मास्क सेनेटाइजर उपलब्ध कराने के साथ साथ अभावग्रस्त लोगों के बीच अनाज और अन्य खाद्य सामग्री का वितरण कराया जा रहा है,तो वहीं दूसरी ओर जिले की बिजली समस्या कैसे दूर हो इसकी भी कोशिश की जा रही है,उन्होंने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को गढ़वा में लचर बिजली व्यवस्था को दुरुस्त कराने को ले कर एक चिट्ठी लिखी है,जिसमें कहा गया है कि गढ़वा में आवश्यकता से काफी कम बिजली की आपूर्ति की जाती है,जिस कारण यहां आम लोगों के उपयोग सहित अन्य व्यवसायिक एवं औद्योगिक कार्य के संचालन में काफी कठिनाई होती है,मंत्री ने कहा कि गढ़वा में निर्बाध एवं सुचारू बिजली आपूर्ति के लिए कम से कम 50 मेगा वाट बिजली की आवश्यकता है जबकि वर्तमान गुज़रते वक्त में 8 से 10 मेगावाट बिजली की आपूर्ति ही की जा रही है,वर्तमान में यहां के रेहला ग्रिड को रिहंद उत्तर प्रदेश से 25 मेगा वाट तथा सोननगर बिहार से 20 मेगा वाट बिजली की आपूर्ति की जाती है,सोननगर से मिलने वाली बिजली पूर्णतः रेलवे को चली जाती है,जबकि रिहंद एवं आदित्य बिरला कॉरपोरेशन लि. से मिलने वाली बिजली से गढ़वा एवं पलामू के कुछ क्षेत्र में वितरण किया जाता है,रेहला ग्रिड से वर्तमान में छह फीडर निकलती है,इनमें तीन फीडर गढ़वा शहर, रंका एवं भवनाथपुर से पूरे गढ़वा जिला को बिजली आपूर्ति की जाती है,कम बिजली मिलने के कारण भवनाथपुर एवं रंका फीडर को अल्टरनेट बिजली आपूर्ति की जाती है,ताकि गढ़वा सब स्टेशन से शेडिंग के आधार पर शहर एवं आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति की जा सके,मंत्री ने कहा है कि लॉक डाउन समाप्त होते ही गढ़वा को हटिया ग्रिड से जोड़ने का कार्य युद्ध स्तर पर प्रारंभ कराया जाएगा ताकि चालू वित्तीय सत्र में इसे पूर्ण किया जा सके और गढ़वा को सुचारू एवं निर्बाध बिजली मिले जिससे यहां से दशकों का जड़वत अंधेरा दूर हो।

Total view 700

RELATED NEWS