Bindash News || कैसे चलेगी व्यवस्था की "गाड़ी","सरकार" का ब्रेक हुआ फेल
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

Economy

कैसे चलेगी व्यवस्था की "गाड़ी","सरकार" का ब्रेक हुआ फेल

Bindash News / 06-05-2020 / 399


राज्य में स्थिति अराजक:सत्येंद्र नाथ तिवारी


आशुतोष रंजन
गढ़वा

झारखंड सरकार पर रोजाना ज़बानी हमला बोल रहे भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष सह गढ़वा-रंका विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी द्वारा आज राज्य में उत्पन्न अराजक स्थिति पर चिंता व्यक्त की गयी,उन्होंने कहा कि महागठबंधन सरकार के मुखिया का प्रशासन के साथ-साथ खुद के कैबिनेट पर भी नियंत्रण नहीं है,तभी तो राज्य सरकार ने कोरोना वैश्विक महामारी से निपटने के लिए जो अपनी विस्तृत जानकारी का प्रतिवेदन माननीय उच्च न्यायालय में जमा किया उसे उच्च न्यायालय ने महामारी से निपटने के लिए नाकाफी बताते हुए असंतोष जताकर राज्य सरकार की विफलता पर मुहर लगाने का काम किया है,उन्होंने कहा कि ऐसे ही मंगलवार को राज्य सरकार के एक सदस्य ने पंजाब में फंसे प्रवासी मजदूरों को झूठ बोलकर स्टेशन पर बुलाया कि आज झारखंड के लिए दो ट्रेनें खुल रही हैं जबकि ऐसा कोई निर्देश जारी ही नहीं था,इसका खामियाजा प्रवासी मजदूरों को पंजाब पुलिस द्वारा लाठीचार्ज में घायल होकर भुगतना पड़ा,प्रवासियों के साथ इस तरह का क्रूर मजाक/ जघन्य अपराध के लिए राज्य सरकार प्रवासी मजदूरों से माफी मांगे,पूर्व विधायक ने प्रवासियों पर हुए बर्बरता पूर्ण कार्रवाई की निंदा की है,कहा कि वैश्विक महामारी से निपटने के लिए राज्य सरकार द्वारा संचालित सभी योजनाएं महज खानापूर्ति साबित हो रही हैं,आज 99 प्रतिशत डीलर लाभुकों को कम राशन और ज्यादा पैसे की उगाही कर रहे हैं,मुख्यमंत्री दीदी किचन योजना एवं दाल भात केंद्र कुछ जगहों को छोड़कर अधिकांश जगहों पर बिचौलिया और पदाधिकारियों की जेब गर्म करने की योजना बन कर रह गयी है,राज्य सरकार की विफलता तथा कार्ययोजना नहीं होने का खामियाजा आज प्रदेश के लाखों प्रवासी मजदूरों/विद्यार्थियों को भुगतना पड़ रहा है,प्रत्येक दिन अन्य प्रदेशों/जिलों में फंसे सैकड़ों मजदूरों का फोन आता है लेकिन सरकार ने चंद प्रवासियों को झारखंड लाकर, बड़ी आबादी में बाहर फंसे हुए प्रवासियों को भगवान भरोसे छोड़ने का काम किया है,कहा कि राज्य सरकार द्वारा संचालित व्यवस्था का ब्रेक पूरी तरह फेल हो चुका है,साथ ही सरकार के मुखिया अपने ही मंत्रालय और प्रशासन पर से नियंत्रण खो चुके हैं,जिसके कारण झारखंड की जनता भगवान भरोसे है,उन्होंने केंद्र सरकार से हस्तक्षेप करने की मांग करते हुए कहा कि केंद्र सरकार सवा तीन करोड़ झारखंड वासियों के हितों की रक्षा के लिए कोई वैकल्पिक रास्ता निकाले, ताकि झारखंड वासियों की जान की रक्षा की जा सके।

Total view 399

RELATED NEWS