Bindash News || एक तरफ़ "कोरोना" का वार,तो दूसरी ओर हुआ "FIR"
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

एक तरफ़ "कोरोना" का वार,तो दूसरी ओर हुआ "FIR"

Bindash News / 29-05-2020 / 1004


यह लापरवाही किसकी है,क्या वो भी कार्रवाई के जद्द में आयेंगें.?


आशुतोष रंजन
गढ़वा

ऐसे तो झारखंड के अधिकांश जिले कोरोना से प्रभावित हो चुके हैं,जहां लगातार संक्रमित मिल रहे हैं,पर उनमें से हम अगर बात गढ़वा जिला की करें तो हिंदपीढ़ी के बाद दूसरे पायदान पर गढ़वा ही है जहां कोरोना संक्रमित पाए गए,साथ ही मिलने का सिलसिला बदस्तूर जारी है,लेकिन इतना के बाद भी और जिला प्रशासन के वरीय अधिकारियों की सतर्कता और हिदायत के बाद भी कुछ कर्मचारी और जिम्मेवार लोग ऐसे भी हैं जिनके द्वारा लापरवाही भी बरती जा रही है,तभी तो ऐसा मामला सामने आ गया जो बहुत कुछ परिलक्षित करने के लिए काफ़ी है,आख़िर क्या माज़रा है जानने के लिए पढ़िए यह ख़ास रिपोर्ट।

तो दूसरी ओर हुआ FIR
:- एक तरफ़ कोरोना का वार तो दूसरी ओर हुआ FIR",जी हां आपने बिल्कुल सही पढ़ा,आप इस जानकारी से तो पूर्व में ही वाकिफ़ हो चुके हैं कि गुज़रे कल को जिला मुख्यालय के सोनपुरवा मोहल्ले से दो व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाए गए थे,जो बाहर सुदूर प्रदेश से आए हुए बताए जा रहे हैं,लेकिन अब जिस जानकारी से हम आपको अवगत कराने जा रहे हैं इससे तो आप बख़ूबी नावाक़िफ़ ही होंगें,हमने बताया कि वो बाहर से आये थे,तो स्वाभाविक है कि उनका स्क्रीनिंग हुआ होगा और साथ ही उन्हें घर या किसी सरकारी सेंटर में क्वारंटाइन होने का निर्देश भी दिया होगा,ऐसा हुआ भी था,उन्हें सरकारी क्वारंटाइन में रहने को निर्देशित किया गया था,वो जांच के उपरांत चले भी वहीं यानी आश्रय गृह नामक सेंटर जाने को लेकिन वहां जाने पर रहने के निमित कोई जानकारी नहीं मिलने की सूरत में वो घर को लौट गए और वहीं रहने लगे,इसी बीच उनका सैंपल भी लिया गया,और जांच के उपरांत वो कल पॉजिटिव पाए गए,जैसे ही उनके संक्रमित होने की जानकारी मिली ठीक उसी के साथ ही यह भी मालूम हुआ कि वो सरकारी सेंटर में नहीं बल्कि घर में ही रह रहे थे,इस जानकारी के बाद प्रशासनिक महक़मा सकते में आ गया,उपायुक्त हर्ष मंगला द्वारा इसे गंभीरता से लिया गया,उनके द्वारा बताया गया कि सबसे पहले तो उन्हें कोविड 19 हॉस्पिटल मेराल में भर्ती करने के साथ साथ उनके विरुद्ध मामला भी दर्ज़ किया गया,यानी उन दोनों के नाम FIR किया गया और उनके पूरे परिवार को तत्काल आइसोलेट किया कर दिया गया।

यह किसकी है लापरवाही:- वरीय अधिकारियों से प्राप्त निर्देश के बाद न जाने किस व्यवस्था को ले कर अधीनस्थ अधिकारी और कर्मचारी करा रहे ख़ुद की वाहवाही,इस ख़बर के बाद उठता है सवाल की यह किसकी है लापरवाही",जी बिल्कुल उपायुक्त,एसडीओ और अन्य वरीय अधिकारियों द्वारा दिये जा रहे निर्देश के आलोक में अन्य अधीनस्थ अधिकारी और कर्मचारी ख़ुद के द्वारा किये जा रहे किस व्यवस्था की वाहवाही कराने में व्यस्त हैं जब इतनी बड़ी लापरवाही सामने आ गयी,यह तो जिला मुख्यालय का मामला था सो जानकारी मिल गयी कि उन्हें कहां रहना था और वो कहां रह रहे थे,लेकिन यहां यह कहने में कोई गुरेज़ नहीं है कि जब जिला मुख्यालय में इस महामारी में इतनी बड़ी लापरवाही बरती जा रही है तो सुदूर गांव और देहात का क्या हाल होगा,जहां होम क्वारंटाइन के निमित लोगों को भेजा गया है,साथ ही इस लापरवाही ने यह भी ज़ाहिर कर दिया कि वह शहर हो या देहात जहां भी सरकारी क्वारंटाइन सेंटर है और उसके देखरेख को ले कर जिन्हें भी जिम्मेवारी दी गयी है वो अपने दायित्व का किस रूप में निर्वहन कर रहे हैं,अब सवाल उठना लाज़िमी है कि उन दोनों के विरुद्ध FIR तो कर दिया गया,लेकिन क्या लापरवाही बरतने वाले भी कार्रवाई के जद्द में आयेंगें..?

Total view 1004

RELATED NEWS