Bindash News || क्यों डर रहा "ब्राह्मण समाज" ?
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

क्यों डर रहा "ब्राह्मण समाज" ?

Bindash News / 02-08-2020 / 1074


सरकार में ब्राह्मणों की हत्या क्यों:अभिषेक


आशुतोष रंजन
गढ़वा

ऐसे तो वो खुद को निडर परिभाषित करते हैं,क्योंकि अपने आप को वो परशुराम का वंसज मानते हैं,दरअसल हम बात यहां ब्राह्मणों की कर रहे हैं,और उसमें भी बात अगर हम झारखंड के पलामू और गढ़वा जिले की करें तो यहां के ब्राह्मण तो खुद को शास्त्र के साथ साथ सशत्र के भी ज्ञाता बताते हैं,सशत्र की क्यों यह मुझे शायद यहां बताने की जरूरत नहीं है,क्योंकि गाहे ब गाहे आपके सामने उनका सशत्र ज्ञान ज़ाहिर होते रहता है,लेकिन इतना सबकुछ के बाद भी ब्राह्मण आज डर रहे हैं,उनका डरना निश्चित रूप से सोचनीय विषय है,आख़िर कहां के ब्राह्मण क्यों डर रहे हैं आइये आपको बताते हैं।

 

क्यों डर रहा ब्राह्मण समाज:- आख़िर क्यों डर रहा ब्राह्मण समाज,जो कल को भले निर्भीक थे पर आज वो डर रहे हैं,वो ब्राह्मण समाज पलामू और गढ़वा का नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश का है जो आज खुद को पूरी तरह असुरक्षित महसूस कर रहा है,ऐसा क्यों है इस बावत राष्ट्रीय परशुराम सेना के अभिषेक तिवारी कहते हैं कि उत्तर प्रदेश में कुछ दिनों से परिस्थिति बिगड़ी हुई चल रही है,जिसमें ब्राह्मण समाज के लोग अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं,ब्राह्मणों की हो रही हत्याओं से समाज में डर परिलक्षित होता दिख रहा है,जिस तरीके से प्रदेश में अपराधी नियंत्रण से बाहर होते जा रहे हैं यह चिंता का विषय है,घटनाएं लगातार घट रही हैं और अपराधी का पता नहीं चल रहा है,तो सवाल उठना लाज़िमी है कि आख़िर जिम्मेवार कौन है.? ब्राह्मणों की हत्या से प्रदेश का बच्चा-बच्चा ख़ौफ़ज़दा है,ब्राह्मणों की हो रही हत्या से घटना का ग्राफ बढ़ता जा रहा है,जो चिंतनीय है,सरकार ज़बान से भयमुक्त माहौल का दावा करते भले ना थक रहा हो,पर ज़मीनी हक़ीक़त दावे से बिल्कुल इतर है,ब्राह्मणों की निर्मम हत्या की जा रही है,आंकड़ों पर गौर करें तो प्रदेश में 15 दिनों में 40 से अधिक ब्राह्मण की हत्या होती है,लेकिन प्रदेश सरकार द्वारा कोई उचित कार्रवाई नहीं की जा रही है,अभिषेक कहते हैं कि हमारे समाज के लोगों की लगातार हो रही हत्या से हम बहुत आहत हैं,लेकिन आज उत्तर प्रदेश में ब्राह्मणों की हत्या को लेकर कोई सवाल उठता नहीं दिख रहा है,फ़िर एक प्रश्न जेहन में कौंधता है कि जब राज्य में खुद को ब्राह्मणों की हितैषी कही जाने वाली भाजपा की सरकार सत्तासीन है,उसके बावजूद आज ब्राह्मणों की ही हत्या क्यों हो रही है,यह केवल एक ज्वलंत सवाल नहीं बल्कि बहुत ही गंभीर विषय है,क्योंकि अब तलक इसे ले कर सरकार बिल्कुल मौन है,और उधर ब्राह्मणों में ख़ौफ़ व्याप्त है,वह समाज दहशत में है जो खुद शिक्षित होने के साथ साथ समाज को शिक्षा और एक दिशा देने के काम करता है,देश की आजादी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाला समाज आज खुद को परतंत्र महसूस कर रहा है,इन सभी बातों के अलावे अभिषेक तिवारी कहते हैं कि सभी घटना की उच्च स्तरीय जांच कराकर हत्यारों के विरुद्ध सरकार कड़ी कार्रवाई करे या फ़िर हमारे उग्र आंदोलन को झेलने को तैयार रहे।

Total view 1074

RELATED NEWS