Bindash News || इधर पुलिस लगा रही अपराध रोकने पर ज़ोर,तो उधर ताला तोड़ रहे "चोर"
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

इधर पुलिस लगा रही अपराध रोकने पर ज़ोर,तो उधर ताला तोड़ रहे "चोर"

Bindash News / 26-12-2020 / 128


क्या इतने शातिर हैं ये गुलगुलिया..?


आशुतोष रंजन
गढ़वा

इधर गढ़वा में वह चाहे शहरी मुख्यालय हो या सुदूर गांव देहात सभी जगह से अपराध का समूल ख़ात्मा हो जाये,और लोग जो ख़ुद को असुरक्षित महसूस करते हैं,वो अब अपने को महफ़ूज समझें,बहुत हद तक इसमें कामयाबी भी मिली है,लेकिन पूर्ण रूपेण मिलना शायद रात का ख़्वाब नहीं बल्कि दिन में देखा जाने वाला दिवास्वप्न प्रतीत हो रहा है,क्योंकि कुछ ऐसी घटना घटित हो ही जा रही है,अब ऐसा क्या हुआ आइये आपको बताते हैं।

देखिये उधर ताला तोड़ रहे चोर:- इधर अपराध रोकने को ले कर पुलिस लगा रही ज़ोर,तो उधर देखिये ताला तोड़ रहे चोर",आप बिलकुल ठीक पढ़ रहे हैं,इस जानकारी से तो आप बख़ूबी वाक़िफ़ हैं कि अपराध पर रोकथाम के निमित पुलिस लगातार अभियान चला रही है,इसका जो मुख्य जड़ है नशाख़ोरी,पुलिस उस जड़ पर भी वार कर रही है,लोगों से सहयोग की अपील भी की जा रही है,लोग सहयोग कर भी रहे हैं,क्योंकि सभी की चाहत है कि वो महफ़ूज रहते हुए सुकून की ज़िंदगी बसर करें,लेकिन फ़िर भी लोगों के जीवन में कोलाहल तो पुलिस के पेशानी पर बल आ ही जा रहा है,कारण की चोरी जो हो जा रही है,आपको बताएं कि सुदूर देहात नहीं बल्कि जिला मुख्यालय के सबसे पॉस इलाका माने जाने वाले चिनिया रोड स्थित संजय नामक संवेदक यानी ठेकेदार के घर में चोरी हो गयी,लगभग चार लाख रुपये की चोरी की बात बतायी जा रही है,जब परिवार के लोग अपने गांव गए हुए थे,तब इधर चोरों द्वारा उनके घर में चोरी कर ली गयी,चोरी की पुलिसिया रिपोर्ट दर्ज़ करा दी गयी है,और उधर पुलिस चोरों को पकड़ने को ले कर छापेमारी भी शुरू कर दी है।

क्या इतने शातिर है ये गुलगुलिया:- यह कोई पहली बार नहीं है कि चोरी मामले में गुलगुलिया गैंग का नाम आया है,अब आप यह नाम सुन कर यह अंदाज़ा मत लगा लीजियेगा की यह कोई मुंबइया गैंग तो नहीं जो अब समुंद्र की लहरों पर राज करने के बजाए चोरी करने लगा,दरअसल यह गढ़वा शहर से किनारे में रह रहा खानाबदोश लोग हैं,जिन्हें लोग गुलगुलिया कहते हैं,ये कई तरह के काम कर के यायावरी ज़िंदगी जीते हैं,उन्हीं सब कामों में से चोरी भी उनका प्रमुख कार्य बन गया है,इस चोरी के बाद उनके गैंग का नाम आना यह कोई पहली दफ़ा नहीं है,पहले भी कई बार उनपर चोरी का दफ़ा दर्ज़ हो चुका है,लेकिन बार बार पुलिसिया कार्रवाई के बाद भी शोले फ़िल्म के जेलर के संवाद जैसा नहीं सुधरे,अनुसंधान के साथ साथ पुलिसिया कार्रवाई तक बदले पर वो गुलगुलिया गैंग नहीं बदला,तभी तो आज सबके जेहन में सवाल कौंध रहा है कि क्या इतना शातिर है यह गैंग..?

Total view 128

RELATED NEWS