Bindash News || बिना लिए अवकाश, ऐसे कर रहा हूं विकास
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

बिना लिए अवकाश, ऐसे कर रहा हूं विकास

Bindash News / 01-04-2021 / 610


नकारा थे पहले के प्रतिनिधि, लुटा दिए विधायक निधि:मिथिलेश


आशुतोष रंजन
गढ़वा

कालांतर से वर्तमान तक राज्य से ले कर देश पटल पर एक जिला अपने पिछड़ेपन के लिए चर्चित है,हम बात गढ़वा की कर रहे हैं,लेकिन कल का अविकसित जिला अब विकास कर रहा है,आख़िर कैसे,जानने के लिए आप इस रिपोर्ट को पढ़िये।

ऐसे कर रहा हूं विकास
:- सड़क के नाम पर चलने को पगडंडी,रहने को आवास की जगह खपड़ैल घर में रहने की विवशता,हलक तर करने के लिए चुआं ही जहां के लिए एकमात्र सहारा था वह जिला गढ़वा था,पर आज स्थिति बदल रही है,अविकसित जिले का विकास हो रहा है,और यह संभव हो रहा है स्थानीय विधायक सह सूबे के मंत्री मिथिलेश ठाकुर के दिली प्रयास से,ग्यारह साला संघर्ष के दरम्यान से ही जिले के पिछड़ेपन से दो चार हो भावुक होने वाले मिथिलेश ठाकुर द्वारा उस वक्त से विकास का संकल्प लिया गया था,जो अब विधायक और मंत्री बनने के बाद उनके द्वारा उसे पूरा किया जा रहा है,जिसकी बानगी हर रोज़ देखने को मिल रही है,जिले के मेराल प्रखंड जैसे इलाक़े में लोग कई दशकों से सड़क की राह ताक रहे थे,जहां लोगों को घर से मुख्य सड़क तक पहुंचने में घंटों गुज़र जाते थे आज उनके गांव में मंत्री सड़क की योजना ले कर पहुंचे,जहां एक दो नहीं बल्कि दर्जनों महत्वपूर्ण सड़क योजना की आधारशिला रखी गयी,मौक़े पर उनके द्वारा पूर्व के जनप्रतिनिधियों को आड़े हाथों लेते हुए कहा गया कि पहले के प्रतिनिधियों के नकारेपन की वज़ह से ही आज तलक क्षेत्र बदहाल रहा,केवल वोट लेना और सत्ता पर काबिज़ हो कर इलाक़े के हालात सुधारने की जगह वो ख़ुद की स्थिति बदलने में रत रहे,जिसका आलम है कि आज तलक लोग विकास से महरूम हैं,पर अब ऐसी स्थिति नहीं रहेगी,सड़क रूपी बुनियाद पर विकास की बुलंद इमारत खड़ी करने को ले कर मैं संकल्पित हूं,साथ ही कहा कि विधायक मद के चार करोड़ रुपये से विधानसभा क्षेत्र के सभी 73 पंचायतों को पूर्ण विकसित करने की योजना किसी बंद कमरे में बैठ कर नहीं बल्कि लोगों से सलाह मशविरा कर बनायी गयी है,उक्त सभी योजनाएं किसी को ठेकेदारी दे कर ख़ुश करने के लिए नहीं बल्कि सच में धरातल पर विकास दिखे इस निमित ली गयी हैं,साथ ही कहा कि हमने ग्यारह साल के दरम्यान रोज़ प्रतिरोज परेशानी से आहत हो कर लोगों को बिलखते देखा है,जहां तक संभव हो पाता था मदद करता था पर एक कसक रहता था कि स्थायी निदान नहीं कर पा रहा हूं,मैं कर सकता हूं,मुझमें कुछ करने का जज़्बा है उसका अहसास करते हुए लोगों ने हम पर विश्वास जताया,तभी तो आज उनके विश्वास पर पूरी तरह खरा उतरते हुए बिना लिए अवकाश करने में जुटा हूं गढ़वा का विकास।

लुटा दिए निधि:- ऐसी बात नहीं है कि गढ़वा के पिछड़ेपन को दूर करने के लिए विकास की योजनाएं नहीं बनती थीं,एक दो नहीं बल्कि सैकड़ो और हज़ारों योजनाएं स्वीकृत होती थीं,पर अफ़सोस उनमें से अधिकांश कभी धरातल पर नहीं उतरती थीं,तभी तो आज भी गांव विकास से कोसो दूर है,ऐसे में जनप्रतिनिधियों द्वारा अपने विधायक निधि का बंदरबांट कर दिया जाता था,पर हमारे द्वारा अपने निधि का पूरी तरह सदुपयोग शुरू किया जा रहा है,तभी तो जहां आज उक्त निधि से मेराल प्रखंड क्षेत्र में दर्जनों योजनाओं की आधारशिला रखी गयी वहीं मौक़े पर ही संवेदक को कड़े शब्दों में कहा कि पूरी तरह गुणवत्ता के तहत और समयावधि में कार्य को पूर्ण करें,उधर गांव देहात की सड़कों के लिए आज भी मिट्टी मोरम पथ बहुत ज़रूरी है,लेकिन पिछले कुछ सालों से रोक होने के कारण कार्य नहीं हो सका,पर मंत्री मिथिलेश द्वारा मुख्यमंत्री से किये गए विशेष अनुरोध के बाद स्वीकृति मिली और योजनाओं पर कार्य शुरू हुआ,मंत्री ने कहा कि सड़क और अन्य योजनाओं के साथ साथ छोटी बड़ी सभी योजनाएं शुरू हो कर निश्चित अवधि में पूरी होंगीं,ताकि जहां एक तरफ़ लोगों की परेशानी दूर हो वहीं जिला पूर्ण विकसित हो।

विकास के लिए संवेदनशील हो कर कार्य करने वाले मंत्री की जहां एक ओर लोग सराहना कर रहे हैं वहीं यह भी कह रहे हैं कि अब हमारे जिले के ऊपर लगे पिछड़ेपन का कलंक धूल जाएगा और हमारा गढ़वा विकसित कहलायेगा।


Total view 610

RELATED NEWS