ग्राहक के विरोध के बाद दुकानदार के द्वारा कहा जाता है अरे लेना है तो लो या कोई दूसरी दुकान देख लो


आशुतोष रंजन
गढ़वा

गढ़वा शहर में आबकारी विभाग की लापरवाही के चलते शराब की दुकानों पर मनमानी कीमत वसूली जा रही है,शराब की दुकानों पर सुबह से रात में निर्धारित वक्त से ज्यादा समय तक अवैध रूप से शराब बेच कर तय कीमत से ज्यादा राशि वसूलने की शिकायतें तो मिलती ही रहती हैं लेकिन दिन के उजाले में भी शराब की तय कीमतों से ज्यादा राशि वसूली जा रही है, लगातार मिल रही शिकायतों के बाद दैनिक भास्कर ने शहर के कुछ शराब की दुकानों पर स्टिंग किया गया,जिसमें यह हकीकत सामने आई,शराब पर तय कीमत से लगभग 20 से 30 रुपए तक ज्यादा वसूले जा रहे हैं,इतना ही नहीं शराब बिक्री के बंद होने के बाद भी कई जगह बिना किसी रोकटोक के शराब धड़ले से बेची जा रही है,जिससे राजस्व को भी नुकसान पहुंचाया जा रहा है, आबकारी विभाग इसको रोक पाने में पूरी तरह नाकाम साबित हो रहा है,कहने को तो रात 9,30 बजे बाद शराब बिक्री पर रोक लगी हुई,लेकिन शराब की कई दुकानों पर रात 9,30 बजे बाद भी बेखौफ बिक्री होती है,दुकानों के बंद करने का समय होते ही दुकान का शटर तो नीचे गिरा देते हैं लेकिन जैसे कोई ग्राहक आता है तो उससे ज्यादा राशि लेकर शराब दे दी जाती है, कई दुकानों के पास स्थित घरों में भी शराब दूसरी जगह छिपा दी जाती है,और ठेके पर आने वाले व्यक्ति को बेची जाती है,इस पर 20 से 50 रुपए तक ज्यादा वसूली जाती है,इन पर कार्रवाई अब तलक शून्य है।

अधीक्षक कहते हैं: – इस संबंध में उत्पाद विभाग के अधीक्षक निर्मल कुमार ने बताया कि शराब की दुकानों पर तय मूल्य से अधिक राशि वसूलने की शिकायत मिलती है तो तत्काल हम लोगों द्वारा कार्रवाई की जाती है,कुछ दुकानों पर आकस्मिक निरीक्षण कर कार्रवाई की गई है, ग्राहक मूल्य से अधिक कीमत हरगिज ना दें,अगर अधिक पैसा मांगता है तो तत्काल शिकायत करें,कार्रवाई की जाएगी।

केस : 1 सहिजना रोड के पास शराब की दुकान: – दुकान पर ग्राहक ज्यादा नहीं थे,बीयर के का केन मांगा गया तो उस पर दाम 140 रुपए अंकित था,लेकिन दुकान में मौजूद व्यक्ति द्वारा 160 रुपए की मांग की गई, छपी कीमत से अधिक मांगने का विरोध किया तो दुकानदार ने कहा कि अरे लेना है तो लो या कोई और दुकान से ले लाे यहां तो इतना ही देना होगा।

तभी हमने कहा की अगर आपको अपशब्द और गाली बर्दाश्त करने की आदत है,आप सहन कर लेते हैं तभी आप गढ़वा के शराब दुकान पर जाएं जहां आपको एक ओर जहां निर्धारित मूल्य से ज्यादा कीमत देनी पड़ेगी वहीं दूसरी ओर अगर आप विरोध किए तो आपको अपशब्द और गाली सुननी पड़ेगी,अब देखना यह होगा की इस विषय को ले कर विभाग और प्रशासन द्वारा कब तलक क्या कार्रवाई की जाती है..?