साला ने ही की थी बहनोई की हत्या


आशुतोष रंजन
गढ़वा

गढ़वा जिला के भवनाथपुर में पदस्थापित प्रखंड समन्वयक सिराज हत्याकांड का खुलासा आज पुलिस द्वारा कर दिया गया,हत्या रोज़ से चर्चा का विषय बने मामले का आज पटाक्षेप तब हो गया जब उक्त घटना में शामिल दो मुख्य आरोपियों को पुलिस द्वारा गिरफ़्तार कर लिया गया,आख़िर किसने की थी हत्या,आइए आपको इस ख़बर के ज़रिए बताऊं।

सिराज हत्याकांड का हुआ खुलासा: – आपको बताएं की गुज़रे 14 जुलाई को नगर उंटारी थाना क्षेत्र के तुलसीदामर घाटी में अज्ञात लोगों द्वारा प्रखंड समन्वयक सिराज अहमद को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी,इसका खुलासा शनिवार को एसडीपीओ ने प्रेसवार्ता कर किया,जानकारी देते हुए एसडीपीओ प्रमोद केसरी ने बताया कि कांड का उद्भेदन एवं अभियुक्तों के गिरफ्तारी हेतु पुलिस अधीक्षक अंजनी कुमार झा से प्राप्त निर्देश के आलोक में एक टीम का गठन किया गया था,उक्त टीम द्वारा ही अनथक प्रयास करते हुए जहां एक ओर हत्याकांड का खुलासा किया गया तो वहीं दूसरी ओर घटना में शामिल दो मुख्य आरोपियों को गिरफ़्तार भी कर लिया गया।

साला ने ही की थी बहनोई की हत्या: – उन्होंने कहा कि मृतक सिराज अहमद द्वारा अपनी पत्नी को शादी के 2 दिन बाद ही छोड़ दिया गया था,जिसके बाद जहां एक ओर लगातार मामला कोर्ट में भी चल रहा था वहीं दूसरी ओर तनाव भी चल रहा था,इसी क्रम में सिराज के साला ने मौके को देखते हुए तुलसीदामर घाटी में बहनोई सिराज को गोली से मार दिया,जिससे उसकी घटना स्थल पर ही मौत हो गई,गठित टीम द्वारा 21 जुलाई को छापेमारी कर कांड के नामजद प्राथमिकी अभियुक्त टीपू सुल्तान एवं इमरान अंसारी को गिरफ्तार कर लिया गया,दोनों गिरफ़्तार अभियुक्तों ने अपना अपराध भी स्वीकार कर लिया,दोनों अभियुक्त टीपू सुल्तान एवं इमरान अंसारी फरठिया गांव के रहने वाले हैं,अधिकारी ने यह भी बताया की इस हत्याकांड को मृतक के ससुरलवालों के इशारे पर अंजाम दिया गया है,जल्द ही अन्य सभी आरोपियों की भी गिरफ़्तारी होगी।