मुसलमानों द्वारा दी गई ज़मीन से गुजर कर हिन्दू करते हैं अपने आराध्य का दर्शन


आशुतोष रंजन
गढ़वा

गंगा जमुनी तहज़ीब वाले अपने देश में हर क़दम पर इसका मुजायरा देखते बनता है,कुछ ऐसा ही उदाहरण हमें झारखंड के गढ़वा में देखने को मिलता है जहां मुसलमानों द्वारा दी गयी ज़मीन से गुज़र कर हिन्दू अपने आराध्य का दर्शन करते हैं,कौन है वह मंदिर जानने के लिए पढ़िए हमारी यह ख़ास रिपोर्ट-

वो मंदिर है खोनहर नाथ : – जहां पहुंचते ही वो हो जाते हैं साथ,वो मंदिर है खोनहर नाथ”,जी हां हम बात कर रहे हैं गढ़वा-पलामू मुख्य सड़क से कुछ ही दूरी पर बेलहारा गांव पास स्थित खोनहर नाथ मंदिर की,जिससे राज्य सहित पड़ोसी राज्यों के लोगों की गहरी आस्था जुड़ी हुई है,300 साल पहले गुफा ( खोह ) में स्थापित शिवलिंग जिसकी खोनहर बाबा के नाम से प्रसिद्धि मिली,कहा जाता है कि खोनहर बाबा से लोगों की अगाध श्रद्धा जुड़ी हुई है,हारी बीमारी के साथ किसी भी विपदा में लोग बाबा के नाम का गुहार लगाते हैं जो सुनी जाती है और वो संकट मुक्त होते हैं,यहां ऐसे तो सालों भर दर्शन और पूजन के लिए लोगों का आना जाना लगा रहता है,लेकिन जहां एक ओर सावन के हर सोमवार को यहां भव्य पूजा का आयोजन होता है साथ ही मेला भी लगता है,उधर महाशिवरात्रि को भी विशेष पूजा अनुष्ठान किया जाता है।

हिन्दू और मुसलमानों के बीच एकता को मजबूत करता है यह मंदिर : – इस खोनहर नाथ मंदिर से हिन्दू और मुसलमानों के बीच एकता की डोर कितनी मजबूती से बंधी हुई है इसका सबसे जीवंत मिसाल यह है कि मंदिर तक जाने के लिए दशकों तक लोग खेतों और पगडंडियों से गुज़रते रहे लेकिन फिर बाद में गांव के मुसलमानों ने खुद पहल करते हुए सड़क निर्माण के लिए जमीन देने की बात कही और एक दिन बैठक हुई और उनके द्वारा जमीन दी गयी जिसमें तत्काल सड़क का निर्माण हुआ जिससे गुज़र कर आज लोग खोनहर नाथ मंदिर पहुंचते हैं,साथ ही लोग यहां तक कहते हैं कि अपनी ज़मीन देने से उक्त मंदिर से मुसलमानों की गहरी आस्था भी जुड़ी हुई है!

इस धार्मिक स्थल को संवारने में जुटे हैं मंत्री मिथिलेश : – समस्या को करते हुए शेष,अब मंदिर को संवारने में जुटे हैं मंत्री मिथिलेश,हमने आपको खबर के जरिये प्रसिद्ध और महत्ता वाले खोनहर नाथ मंदिर के बावत बता दिया,लेकिन यहां पर यह भी बता देना ज़रूरी है की प्रसिद्धि के बाद भी गांव की तरह यह मंदिर भी विकास से दूर था,लेकिन विकास को क़रीब लाने का पर्याय बन चुके स्थानीय विधायक सह राज्य के मंत्री मिथिलेश ठाकुर द्वारा जिस तरह विधानसभा क्षेत्र को विकसित करने का संकल्प लेते हुए उस दिशा में तीव्रता से कार्य किया जा रहा है ठीक उसी तरह उक्त मंदिर को भी विकसित करने का बीड़ा उठाया गया और सबसे पहले तो मुख्य सड़क पर जहां से मंदिर जाया जाता है वहां एक भव्य तोरण द्वार का निर्माण कराया गया,उसके साथ ही साथ मंदिर परिसर भी कैसे सुव्यवस्थित नज़र आवे इस निमित भी कई कार्य किए गए,आलम है की आज उक्त खोनहर नाथ मंदिर भव्य नज़र आ रहा है!