कभी कभी ऐसा भी हो जाता है
 

आशुतोष रंजन
गढ़वा 
 
लोकसभा चुनाव को ले कर राजनीतिक दलों द्वारा कार्यालय खोलने की शुरुआत की जा चुकी है,ऐसे में आज झारखंड के दुमका में जिला भाजपा द्वारा चुनावी कार्यालय की शुरुआत की गई,उसी कार्यक्रम में महिला मोर्चा की प्रदेश स्तरीय नेत्री के साथ ऐसा वाक्या घटित हुआ की उनके साथ साथ कार्यक्रम में मौजूद सभी लोग सकते में आ गए,आख़िर ऐसा क्या हुआ था आइए आपको इस ख़ास ख़बर के ज़रिए बताते हैं।
 
भाजपा नेत्री के साथ हुआ कुछ ऐसा की लोग सकते में आ गए : – आप जानने के लिए बिल्कुल उत्सुक होंगे की आख़िर क्या वाक्या घटित हुई थी,इस ख़बर के पहले पाराग्राफ में पढ़ कर आप वाक़िफ हो ही गए हैं की दुमका जिला भाजपा द्वारा बाबूपाड़ा में चुनावी कार्यालय की शुरुआत की गई,उक्त मौक़े पर एक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया था,जहां पूर्व मंत्री लुईस मरांडी मुख्य रूप से मौजूद थीं,कार्यक्रम के दरम्यान ही महिला मोर्चा की प्रदेश स्तरीय एक नेत्री वॉशरूम गईं,अंदर से जब उनके द्वारा वॉशरूम का दरवाज़ा बंद किया गया तो वो ऐसा बंद हुआ की जब वो दरवाजा खोलना चाहीं तो वो नहीं खुला,ख़ुद से उनके द्वारा बहुतेरे प्रयास किया गया लेकिन दरवाज़ा नहीं खुला,बताया जाता है की आधे घंटे के उनके प्रयास के बाद भी जब दरवाज़ा नहीं खुला तो वो कार्यक्रम में मौजूद अन्य नेत्री को फोन की,फिर क्या था जहां एक ओर लोग सकते में आ गए तो वहीं दूसरी ओर सबके द्वारा दरवाज़ा खोलने का प्रयास किया जाने लगा,जब नहीं खुल पाया तब मिस्त्री को बुलाया गया तब कहीं जा कर दरवाज़ा खुला,दरवाज़ा खुलने के बाद उनके साथ साथ सबों ने राहत का सांस लिया,लेकिन बंद होने से खुलने तक की अवधि में भाजपा की वो नेत्री लगभग दो घंटे तक वॉशरूम में बंद रहीं।