अब आसान नहीं है गढ़वा में मतदाता को डराना और बूथ लूटना


आशुतोष रंजन
गढ़वा

राज्य का गढ़वा वो जिला है जहां पास में हथियार रखना ज़रूरत से कहीं ज़्यादा स्टेटस सिंबल बन गया है,वर्तमान गुजरते वक्त में चुनाव को ले कर सबका लाइसेंसी हथियार जमा है नहीं तो आए दिन आप हथियार के साथ लोगों को ज़रूर नज़र करते होंगे,उधर इस गढ़वा को अपराध वाला जिला भी कहा जाता है जहां कुछ असामाजिक तत्व के व्यक्ति अवैध रूप से हथियार रखा करते हैं तो वहीं दूसरी ओर इस जिले से हथियार की भी आपूर्ति भी होती है,यह बात अलग है की कुशल पुलिस अधीक्षक दीपक पांडेय के नेतृत्व में जिले को अपराध मुक्त बनाने को ले कर तीव्रता से काम हो रहा है,साथ ही लोकसभा चुनाव को ले कर पुलिसिया कार्रवाई में तीव्रता आई है तभी तो मैने लिखा की मत रखिए अब पास में अवैध हथियार,देखिए वो हो गया गिरफ़्तार,किसकी और कहां से हुई गिरफ़्तारी आइए आपको बताते हैं |

देखिए वो हो गया गिरफ़्तार :- पिछले ख़बर में हमने आपको बताया था की लोकसभा चुनाव को भयमुक्त और निष्पक्ष संपन्न कराने के लिए गढ़वा पुलिस पूरी तरह प्रतिबद्ध है,उसी प्रतिबद्धता के साथ जहां एक ओर असामाजिक तत्वों के विरुद्ध छापेमारी की जा रही है तो वहीं दूसरी ओर वैसे मतदान केंद्रों को चिन्हित कर उस इलाक़े में भी कार्रवाई की जा रही है जहां पिछले चुनाव में असामाजिक तत्वों द्वारा मतदान के दरम्यान विरोधी गतिविधि को अंजाम दिया गया था,इसी कड़ी में देर रात एक सूचना मिली थी की शहर थाना क्षेत्र के नावाडीह गांव निवासी उपाध्याय सिंह अपने पास अवैध रूप से हथियार रखा हुआ है,उक्त सूचना के सत्यापन के उपरांत एसपी से प्राप्त निर्देश के आलोक में अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी नीरज कुमार के नेतृत्व में एक टीम गठित कर त्वरित छापेमारी की गई जिसमें उपाध्याय सिंह को एक देशी कट्टा और एक जिंदा गोली के साथ गिरफ़्तार किया गया,वो उक्त हथियार को कहां से लाया इस बावत पूछे जाने पर उसने बताया की दरमी गांव के कयूम अंसारी से लिया था,पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए भी प्रयासरत है |

छापेमारी टीम में ये रहे शामिल : – उपाध्याय सिंह को गिरफ़्तार करने वाली टीम में अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी नीरज कुमार के साथ साथ,शहर थाना प्रभारी के के साहू,पुलिस अवर निरीक्षक सुभाष कुमार पासवान,गौतम कुमार,सहायक अवर निरीक्षक अभिमन्यु सिंह,मनोज कुमार सिंह,आरक्षी विक्रम कुमार एवं देव कुमार उरांव शामिल रहे |