अमन और आपसी भाईचारे का जिला है अपना गढ़वा


आशुतोष रंजन
गढ़वा

झारखंड का गढ़वा जिसे कालांतर से अमन,शांति और आपसी भाईचारे वाला जिला कहा जाता है,जहां हिन्दू और मुसलमान दोनों कौम के लोग आपसी सौहार्द और मोहब्बत के साथ जीवन बसर किया करते हैं लेकिन सवाल उठता है की मोहब्बत के इस शहर में आख़िर वो कौन है जो नफ़रत की आग फैला रहा है।

रामनवमी में सम्मानित होते हैं मुहर्रम इंतजामिया कमिटी के लोग : – कालांतर से गुजरते वर्तमान दौर तक गढ़वा के इतिहास में यह दर्ज़ है की दुर्गा पूजा हो रामनवमी इसके आयोजन में जहां एक ओर मुस्लिम समाज के लोग सहयोग किया करते हैं साथ ही ख़ुद शामिल भी होते हैं साथ ही रामनवमी के समापन आयोजन रोज़ मुहर्रम इंतजामिया कमिटी के लोग सम्मानित भी किए जाते हैं,बजाप्ते उन्हें पगड़ी पहना एवं तलवार भेंट कर उनका सम्मान किया जाता है,साथ ही यह भी बताऊं की रामनवमी जुलूस के दौरान अखाड़ों में शामिल रामभक्तों के लिए मुहर्रम कमिटी द्वारा शरबत का स्टॉल भी लगाया जाता है ।

मुहर्रम के वक्त भी स्टॉल लगाती है रामनवमी समिति : – उधर बात मुहर्रम की करें तो उसके आयोजन में भी हिन्दू समाज के लोग जहां एक ओर सहयोग किया करते हैं तो वहीं दूसरी ओर मुहर्रम जुलूस के रोज़ समिति के लोग कई चौक पर स्टॉल लगाते हैं और मुरब्बा शरबत का वितरण किया करते हैं,साथ ही समापन के दिन मुहर्रम कमिटी के लोग रामनवमी समिति के लोगों को मंच पर सम्मानित किया करते हैं

आख़िर कौन फैला रहा मोहब्बत की शहर में नफ़रत की आग : – हर कोई एक है,आपसी भाईचारा कायम है,अमन और शांति का जिला है,मोहब्बत का शहर है लेकिन फिर सवाल उठता है की मोहब्बत की इस शहर में आख़िर कौन फैलाने की कोशिश कर रहा नफ़रत की आग,इस सवाल का ज़वाब ढूंढना नितांत आवश्यक है,क्योंकि अभी भी समय है कहीं ऐसा ना हो की वक्त हाथ से निकल जाए और मोहब्बत का शहर नफ़रत की आग में जल उठे

जैसा घायल युवक ने बताया : – अस्पताल में इलाजरत घायल युवक द्वारा जो बताया गया उसके अनुसार आपको बताएं की देर शाम एक विशेष समुदाय द्वारा हज़रत मलंग शाह दाता के मजार पर चादरपोशी के निमित जुलूस निकाला गया था,उसी जुलूस में शामिल किसी असामाजिक युवक द्वारा उसी रास्ते से गुज़र रहे एक बैल पर तलवार से वार कर दिया गया जिससे वो बुरी तरह ज़ख्मी हो गया,उधर बैल को तड़पता देख तीन चार अन्य युवक उस तक पहुंचे और उनके द्वारा विरोध किया गया,उनका विरोध करना उन असामाजिक युवकों को नागवार गुजरा और वो उन सामाजिक युवकों से उलझ पड़े और उनसे मारपीट की,जिससे वो भी गंभीर रूप से घायल हो गया जो फिलवक्त सदर अस्पताल में इलाजरत है,उधर घिनौनी कुकृत्य से नाराज़ हिन्दू समाज के युवकों द्वारा सोनू सिंह,उमेश कश्यप एवं विपुल दुबे के नेतृत्व में मझिआंव मोड़ से शहर होते हुए जिला समाहरणालय तक आक्रोश मार्च निकाला गया,साथ ही उनके द्वारा आरोपियों की त्वरित गिरफ़्तारी और कार्रवाई की मांग की जा रही है,अब ज़रूरत है प्रशासन को इस गंभीर मसले को गंभीरता से लेने की ताकि कहीं ऐसा ना हो की आक्रोश कोई और रूप अख़्तियार कर ले..?