Bindash News || ख़ुद की "कोख़" का ख़्याल नहीं, दूसरों का "पेट" निहारने चले हैं ?
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

ख़ुद की "कोख़" का ख़्याल नहीं, दूसरों का "पेट" निहारने चले हैं ?

Bindash News / 03-08-2019 / 1671


मरांडी हो चुके असहाय,कह रहे सहाय


आशुतोष रंजन
गढ़वा

दूसरों के दामन पर छींटे फेंकने से पहले अच्छा होता वो अपनी सफ़ेदी का दाग़ देख लेते,उक्त व्यंग्यात्मक पंक्ति आज भाजपा के पूर्व प्रदेश महामंत्री बालमुकुंद सहाय ने कही,दरअसल वो बाबूलाल मरांडी द्वारा दिए गए उस बयान पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे थे जिसमें मरांडी द्वारा झारखंड में भाजपा की नहीं बल्कि गुंडों की सरकार कही गयी है,और क्या कहा बालमुकुंद सहाय ने इस रिपोर्ट को पढ़ कर जानिए।

जिसे ख़ुद मिल रहा हो तलाक़:- वो क्या बात करेंगे क़ानून-ए-तलाक की,जिसे खुद मिल रहा हो तलाक",सत्तापक्ष द्वारा तीन तलाक को कानून बनाये जाने को ले कर बाबूलाल मरांडी द्वारा यह कहे जाने पर की सुप्रीम कोर्ट द्वारा निर्णय कर दिए जाने के बाद तीन तलाक पर कुछ बात करना ही बेमानी है सरकार ऐसा कर के खुद का पीठ खुद से थपथपा रही है,उनके इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए बालमुकुंद सहाय ने हंसते हुए कहा कि बड़ी अजीब बात है क्योंकि आज तक तो मर्द औरत को तलाक देते आये थे लेकिन यहां तो मर्द ही मर्द को तलाक दे रहे हैं,इस आशय को स्पष्ट करते हुए उन्होंने कहा की बाबूलाल मरांडी को उनके ही पार्टी के नेता द्वारा तलाक देना यानी उन्हें छोड़ कर जाना जारी है,और वो आज इस पर कानून बनाये जाने पर ऐसा बयान दे रहे हैं,जबकि उन्हें तो चाहिए कि सरकार से कहें कि कोई ऐसा कानून बनावें जिससे एक मर्द दूसरे मर्द को तलाक देने से बाज आएं ?

कह रहे सहाय:- भाजपानीत सरकार को गुंडों की सरकार के साथ साथ कई तरह से और सरकार को आरोपित करने वाले जेवीएम सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी के विषय में भाजपा के बालमुकुंद सहाय ने कहा कि सत्ता में आने की चाहत के बाद भी सत्ता में नहीं आना,लगातार कुनबे का बिखरना,एक तरफ पार्टी को साफ सुथरा और पाक बताना,और उधर पार्टी नेता द्वारा खुद की पार्टी के महिला नेत्री का रेप करना,ऐसे हालात से लगातार दो चार होने के कारण बाबूलाल पूरी तरह असहाय भी हो गए हैं।

 

Total view 1671

RELATED NEWS