Bindash News || पुलिस खंगाल रही "सीडीआर" होंगें कई और "गिरफ़्तार"
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

पुलिस खंगाल रही "सीडीआर" होंगें कई और "गिरफ़्तार"

Bindash News / 01-09-2019 / 1935


अपराध और अपराधी दोनो को करना है जमींदोज:ओमप्रकाश


आशुतोष रंजन 
गढ़वा
 
वैध हथियार को अवैध रूप से रखने के आरोप में अपने सहयोगियों के साथ अपराधी सरगना विकास दुबे का गिरफ़्तार हो जाना ही कहानी का पटाक्षेप नहीं है बल्कि इसमें अभी और कई अध्याय का जुड़ना बाकी है,वह क्या है जानने के लिए पढ़िए यह ख़ास रिपोर्ट-
 
कार्रवाई में देखी जा रही रफ्तारी:- जबसे हुई है गिरफ़्तारी, कार्रवाई में देखी जा रही रफ्तारी",जी हां विकास दुबे और उनके अन्य सहयोगियों को गिरफ़्तार कर सफ़लता हासिल करने वाली गढ़वा पुलिस के क़दम रुकने के बजाए और तेज़ हो गए हैं,जहां एक तरफ गिरफ़्तारी के बाद जेल भेजने से पहले गिरफ्त में आये सभी से अहले सुबह से देर शाम तक बारी बारी एवं बारीकी से गहन पूछताछ हुई,वहीं दूसरी ओर उनके द्वारा दी गयी सभी जानकारियों पर त्वरित अमल भी किया जा रहा है,वही सब को नजऱ करने के बाद ही तो हमने कहा कि जबसे हुई है गिरफ़्तारी,कार्रवाई में देखी जा रही रफ्तारी।
 
कई होंगें गिरफ़्तार:- पुलिस खंगाल रही सीडीआर,कई और होंगें गिरफ़्तार",विकास दुबे और उनके कुछ सहयोगियों को तो गिरफ़्तार कर लिया गया लेकिन ग्रुप के साथ और कितने लोग जुड़े हैं साथ ही किनकी संलिप्ता है इसे ले कर विकास दुबे के साथ साथ उनके प्रमुख सहयोगियों के मोबाइल कॉल का सीडीआर खंगाला जा रहा है,सूत्रों की माने तो जहां एक तरफ कई नाम सामने आ रहे हैं जिन तक पुलिस के हाथ जल्द ही पहुंचने वाले हैं यानी वो जल्द ही गिरफ्त में आने वाले हैं।
 
और करते हैं काम काला:- बनते हैं सफेदपोश और करते हैं काम काला",हम बात वैसे लोगों की कर रहे हैं जो समाज के सामने सरिफी का सफ़ेदी लिबास धारण किये हुए रहते हैं लेकिन उसके पीछे उनके सारे काम काले होते हैं,युवाओं को कई तरह से प्रलोभन दे कर उन्हें गलत रास्ते पर ले जाना,उनसे अपराध करा कर उन्हें अपराधी बनाना,फिर उनके सरंक्षण में अपने गलत धंधों को मुक़ाम दिलाना ऐसे कई काम हैं जो सफेदपोश बन कर अंजाम दिए जाते हैं,हम यहां उनका ज़िक्र इसलिए कर रहे हैं कि इस गिरफ़्तारी के बाद वैसे लोगों पर भी पुलिस की नज़र है तभी तो गिरफ्त में आये सभी का मोबाइल खंगाला जा रहा है,इस दरम्यान जिनकी तनिक भी संलिप्ता सामने आएगी वो भी गिरफ्त में होंगें।
 
दोनों को करना है जमींदोज:- एसपी शिवानी तिवारी द्वारा प्राप्त निर्देश के आलोक में छापामारी कर इस गिरफ़्तारी को अंजाम देने वाले अधिकारी यानी गढ़वा एसडीपीओ ओमप्रकाश तिवारी कहते हैं कि अपराध और अपराधी दोनों को जमींदोज करना ही हमारे पुलिस कप्तान सहित हमसबों का एकमात्र ध्येय है,उसी के निमित अनवरत अभियान जारी है,जिले को नक्सलियों के साथ साथ अपराधियों से भी मुक्त बनाना है,गिरफ़्तारी के बावत बताया कि केवल विकास दुबे और कुछ सहयोगी को गिरफ़्तार करने को ही हम सफलता नहीं मान रहे हैं हम तब सफल होंगे जब यह आपराधिक ग्रुप पूरी तरह से जमींदोज होगा।
 

Total view 1935

RELATED NEWS