Bindash News || गढ़वा: तीन करोड़ी ठग गिरफ़्तार
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

गढ़वा: तीन करोड़ी ठग गिरफ़्तार

Bindash News / 20-02-2021 / 2604


मेरा पति देवता है:पत्नी 

आशुतोष रंजन
गढ़वा 
 
गढ़वा एसपी श्रीकांत सुरेश राव के नेतृत्व में जिला में एक टीम के रूप में कार्य कर रही पुलिस आपराधिक और नक्सली गतिविधियों पर रोकथाम लगाने के साथ साथ नशा विरोधी अभियान चला कर नशा कारोबारियों पर लगातार दबिश दे रही है,जिसका परिणाम है कि जिला के नशा क़ारोबारी यहां से बाहर निकल सुदूर प्रदेशों में अब कारोबार कर रहे हैं,तभी तो कुछ दिनों पहले ही हमने आपको बताया था कि गढ़वा का एक नशा क़ारोबारी भारी मात्रा में गांजा के साथ भुवनेश्वर में गिरफ़्तार किया गया,तो आज जो जानकारी मिल रही है उसके अनुसार आपको बताएं कि इसी जिला निवासी एक साइबर ठग को भी जिला से बाहर दूसरे प्रदेश की पुलिस द्वारा गिरफ़्तार किया गया,अब वह गढ़वा में कहां का रहने वाला है और उसकी गिरफ़्तारी कहां से हुई,आइये आपको इस ख़बर के जरिये बताते हैं।
 
तीन करोड़ी साइबर ठग हुआ गिरफ़्तार:- वह साइबर ठगी करने के बाद ख़ुद को कानून के जद्द से बाहर मानते हुए स्वच्छंद विचरण कर रहा था,पर उसे शायद इल्म नहीं था कि वह जिस कानून के जद्द से अपने आप को दूर समझ रहा है उसी कानून की हथकड़ी उसके कलाई तक पहुंच रही है,और पहुंची और उसे गिरफ़्तार कर लिया गया,हम बात यहां गढ़वा के पतरिया पंचायत अंतर्गत चौखडी गांव निवासी कमेश पाल की कर रहे हैं,जिसे सीबीआई की टीम द्वारा 3 करोड़ रुपये की साइबर क्राइम के आरोप में जमशेदपुर से गिरफ्तार कर लिया गया,कमेश कि गिरफ्तारी झारखंड पुलिस की मदद से आसाम की सीबीआई की टीम ने 4 फरवरी को जमशेदपुर के गोविंदपुर इलाके से की है।जमशेदपुर के एक स्थानीय अखबार में 5 फरवरी को इस बाबत फोटो के साथ एक खबर छपी थी,जिसमें बताया गया कि मोबाइल लोकेशन के आधार पर उसकी गिरफ्तारी हुई है,सीबीआई की एक्सन टीम को जानकारी मिली थी की वह गोविंदपुर कैलाशनगर का रहने वाला है।वह एक किराए के मकान में रहता था,मिली जानकारी के आधार पर पुलिस वहां पहुंची और उसकी गिरफ़्तारी हुई,आसाम पुलिस की माने तो उसके खिलाफ असम में कई मामले दर्ज हैं,जिस नंबर से उसने साइबर ठगी की है उस नंबर का ट्रैकिंग पुलिस पिछले कई माह से कर रही थी,टीम ने कहा कि कमेश के खाते में एकाएक ज़्यादा रुपया आने पर एक टीम गठित की गई थी,उसी टीम द्वारा कमेश को गिरफ़्तार किया गया।
 
मेरा पति देवता है:- गढ़वा जिला के कई अवैध कारोबारियों की गिरफ़्तारी पहले भी सुदूर प्रदेशों में हो चुकी है,और साथ ही हाल में यह दो मामले सामने आए हैं,उधर जहां कमेश को साइबर ठग बताया जा रहा है तो इधर उसकी पत्नी सीधे रूप में कह रही है कि उसका पति देवता है,कहने का मतलब की मुफ़्लिसी के आलम में ख़ुद के साथ साथ परिवार को दो निवाला नसीब हो सके इस लिहाज़ से वह यानी कमेश बहुत अरसा से बाहर काम किया करता है,वह वहां मज़दूरी करता है ना कि कोई ग़लत काम,अब ऐसे में इतने बड़े आरोप में उसका गिरफ़्तार होना उसकी पत्नी और परिवार के साथ साथ पूरे गांव और इलाके के लोगों के गले नहीं उतर रहा है,गिरफ़्तार किये जाने के सवाल पर पत्नी चिंता,पिता महेंद्र पाल व मां राज कुमारी देवी ने कहा कि कमेश को साजिशन फंसाया गया है,उसकी कौन कहे पूरे परिवार का ग़लत काम से कभी कोई सरोकार नहीं रहा है,पत्नी द्वारा यहां तक कहा गया कि सुनने में आता है कि यह काम वही कर सकता है जो पढ़ा लिखा हो और जिसे मोबाइल के बारे में काफ़ी जानकारी हो,लेकिन यहां तो मेरे पति पढ़े लिखे भी नहीं हैं,वह ठीक से नाम भी नही लिख पाते,ऐसे में मोबाइल से इतना बड़ा अपराध करने का सवाल ही पैदा नहीं होता,साथ ही कहा की मेरे पति गांव के प्रदीप पाल सहित तीन अन्य लोगों के साथ टाटा काम करने 12 जनवरी को गए थे,वह अमित सिंह नामक ठेकेदार के यहां सीमेंट प्लांट में मजदूरी करते थे,जहां पर किसी षडयंत्र के तहत उन्हें फंसाया गया है,अपने पति के नाम से एसबीआई कांडी में खोले गए खाता नंबर 32996281671 को दिखाते हुए कहा कि जब खाता में पैसा आने की जानकारी हुई तो वो पासबुक लेकर बैंक गयी थी लेकिन प्रबंधक द्वारा बताया गया कि जिसके नाम से खाता है उसे ही आना होगा,कहा कि सरकार मेरे पति को न्याय दिलाये,उधर ठेकेदार अमित सिंह से फोन नंबर 9142513361पर बात करने पर बताया गया कि बात सही है कि कमेश पाल की गिरफ्तारी असम की सीबीआई की टीम द्वारा हुई है,साथ ही कहा कि जमशेदपुर के एक वकील से उसकी गिरफ्तारी का डिटेल ले लिया हूँ,उसके परिजन उक्त वकील से संपर्क कर पूरी जानकारी ले सकते हैं।

Total view 2604

RELATED NEWS