Bindash News || आइये घर में रहें चारो पहर...
    

    
    

    
    

    
    
    






       
        
        
 


    

State

आइये घर में रहें चारो पहर...

Bindash News / 24-04-2021 / 617


समझने को विपदा,पढ़िये यह कविता

पुलिस अधिकारी राजीव कुमार सिंह की कलम से


आशुतोष रंजन
गढ़वा

वो केवल पुलिसिंग ही नहीं करते,बल्कि समाज में दशकों से जड़वत कुरीतियों को दूर करने और एक सुसंस्कारिक समाज की स्थापना हो इस निमित वो लोगों को जागरूक भी करते हैं,अपने पदस्थापना वक्त से ही अपनी पुलिसिया जिम्मेवारी का बख़ूबी निर्वहन करने के साथ साथ मुख्यालय के अलावे सुदूर गांव में पहुंच जागरूकता का उनका क्रम उनका लगातार चल रहा है,जिसका सुपरिणाम है कि अब पुलिस के पास रूढ़िवादी परंपरा युक्त झगड़े आने कम हो गए हैं,हमने बेहतर कार्य की चर्चा तो की लेकिन यह किनके द्वारा किया जा रहा है इससे आप अनभिज्ञ हैं तो आपको बताऊं की यह अभिनव कार्य गढ़वा पुलिस में पदस्थापित पुलिस निरीक्षक राजीव कुमार सिंह द्वारा किया जा रहा है,इतना ही नहीं अभी जिस कोरोना महामारी से हम आप जूझ रहे हैं,उसे ले कर भी उनके द्वारा लोगों को जागरूक किया जा रहा है,वर्तमान गुज़रते इस विषम वक्त में सामाजिक दूरी बचाव का एक बड़ा जरिया है तभी तो अधिकारी राजीव कुमार सिंह द्वारा कविता के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जा रहा है,अपनी कविता के जरिये उनके द्वारा क्या संदेश दिया गया है,आइये आप ख़ुद नज़र कीजिये।

जब तक ये करोना का क़हर
लगता जैसे फैला है
वातावरण में ज़हर
तो घर में क्यू न रहे चारों पहर


कुछ लोग हैं ख़ास
जो रहते हैं मेरे दिल के पास
तभी तो उनकी सलामती की,
लगी है अपनी आश,

ये वक़्त है अपना बनाने का
दुनिया में कुछ कर दिखाने का
सपनो के महल से अच्छा
पगडंडियों पर समय बिताने का।

ना कर पैसे का अभिमान,
भले दिला दे ये सम्मान,
पर आज का दिन तो देखो,
धड़क रहा सारा जहान,
काम नहीं आ रहा,
सब साजों सामान,
लोगों के काम आ जाओ
ये बना देगी आपको महान ।

घर छूटे,अम्बर छूटा
दौलत छूटा,
छूटा सारा परिवार,
अपने भी ना काम आए
है यही क़रोना का व्यवहार।

यह महामारी
अभी रहेगी जारी
अगर आपकी चलती रही
यही कारगुज़ारी,
तो सभी ने ये जंग
दुनिया से हारी...

मुहब्बतों में मिलकर
क्यों ना हम ऐसा काम करें,
कि सारी दुनिया मिलकर
हमारे काम को सलाम करे।

क्यूं लगने दें,
तुम्हारे व अपने बीच ग्रहण,
आओ मिलकर ज्योत जलाएं,
फैला दो एक आश भरी किरण
ताकि ना हो किसी का मरण।


Total view 617

RELATED NEWS