कार्रवाई का सवाल बना जी का जंजाल


आशुतोष रंजन
गढ़वा

इंसान अगर भांग खा कर और गांजा पी कर कुछ गलत करे या अपने घर या कहीं और जगह छुप कर अवैध रूप से नशे का कारोबार करे तो वो कार्रवाई के जद में आ जाता है,लेकिन उसी भांग को चूहे खा जाएं और गांजा को पी जाएं तो वो किस कार्रवाई के दायरे में आएंगे,और तब जब वो गांजा और भांग कहीं घर में नहीं बल्कि थाना में रखा गया हो !

यहां चूहे खा गए भांग और पी गए गांजा : – सूत्रों से जो जानकारी मिल रही है उसके अनुसार झारखंड के धनबाद में नशा कारोबारियों के यहां छापेमारी कर भांग और गांजा बरामद किया गया था,जो बाकायदे बरामदगी सूची बनाते हुए एक थाना परिसर में रखा गया था,जिसे कोर्ट में जब दिखाने की बारी आई तो देखा गया की दोनो की मात्रा में काफ़ी कमी है,और साथ ही रखे जगहों पर कई चूहों को भी नज़र किया गया,जिससे यही समझा जा रहा है की भांग और गांजा को चूहों द्वारा नष्ट कर दिया गया,तभी कहा जा रहा है की चूहों द्वारा गांजा पी लिया गया और 19 किलो भांग खा लिया गया,कहा तो यह भी जा रहा है की अब कार्रवाई की तैयारी चल रही है लेकिन सवाल उठता है की किस रूप में कार्रवाई होगी,साथ ही कहूं तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी की घर में चूहों से परेशान हम आप उसे पकड़ने से के कर घर से बाहर निकालने में कामयाब नहीं हो पाते लेकिन कानून के हाथ तो बड़े लंबे होते हैं तो ऐसे में चूहे कहां तक बिल में दुबक पाएंगे,साथ हीं थोड़ा भांग खाने और गांजा पीने से जब इंसान नशे में हो जाता है तो भला चूहे कैसे होश में होंगे…?